गोरखपुर

हिंदू नव वर्ष पर संस्कार भारती द्वारा चार दिवसीय वृहद कार्यक्रम का आयोजन

हिंदू नव वर्ष पर संस्कार भारती द्वारा चार दिवसीय वृहद कार्यक्रम का आयोजन

गोरखपुर: साहित्य रंगमंच और ललित कलाओं को समर्पित अखिल भारतीय संस्था संस्कार भारती द्वारा हिंदू नव वर्ष वर्ष प्रतिपदा विक्रमी संवत 2075 के अवसर पर चार दिवसीय वृहद कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। 15 मार्च शाम 5:30 बजे इंदिरा तिराहा गोलघर पर संस्था के सदस्य एवं विवेकानंद पीठ के बच्चों द्वारा शंखनाद किया जाएगा। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रुप में आई जी गोरखपुर नीलाब्जा चौधरी उपस्थित रहेंगे।

तदुपरांत 17 मार्च को तारामंडल स्थित नौका विहार पर बीत रहे भारतीय नव वर्ष के अंतिम दिन अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ दिया जाएगा। इसी क्रम में नव वर्ष के प्रथम दिवस 18 मार्च को नौका विहार स्थित ताल के किनारे सुबह 5:30 बजे सूर्योदय पर सूर्य को अर्घ दिया जाएगा। उक्त बातें संस्कार भारती महानगर की चित्रकला संयोजक डॉ सुदीप्ता बी भूषण, सह संयोजक गायत्री रत्ना , संगीत संयोजक प्रतिमा श्रीवास्तव, नृत्य संयोजक रीना जायसवाल ने कही।

वह मंगलवार को प्रेस क्लब के सभागार में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। डॉक्टर सुदीप्त बी भूषण ने बताया कि नवसंवत्सर पर महानगर के करीब 50 विद्यालयों के छात्र-छात्राओं द्वारा नदियों के संरक्षण पर आधारित चित्रकला की प्रदर्शनी लगाई जाएगी । सह संयोजक गायत्री रत्ना ने बताया की 18 मार्च को इसका विधिवत उद्घाटन होगा प्रदर्शनी 19 मार्च को सुबह 10:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक देखी जा सकती है। संगीत संयोजक प्रतिमा श्रीवास्तव ने बताया कि 18 मार्च की शाम 6:00 बजे से सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया है जिसमें आकाशवाणी और दूरदर्शन के कलाकारों द्वारा देश गान, रितु गीत आदि प्रस्तुत किए जाएंगे।

साथ ही पखावज के गुरु पागल दास के शिष्य का वादन भी होगा।नृत्य संयोजक रीना जायसवाल ने बताया कि संस्था का कार्य नवोदित कलाकारों को संरक्षित करना है और उन्हें मंच देना, ऐसे में इस आयोजन में स्थानीय कलाकारों को मौका दिया जा रहा है। सांस्कृतिक संध्या के दौरान भरत नाट्यम भगवान श्री कृष्ण के 4 रूपों को नृत्य के माध्यम से प्रदर्शित किया जाएगा।

प्रतिमा एवं रीना ने बताया कि 19 मार्च की शाम को वाणी वाणी कला केंद्र जयपुर के कलाकारों द्वारा राजस्थान की वीरांगनाओं पर आधारित नृत्य नाटक राजपूताना की प्रस्तुति होगी। सभी कार्यक्रम तारामंडल स्थित मुक्ताकाशी मंच एम्फी थियेटर के प्रांगण में होगा।

डॉ सुदीप्ता ने बताया कार्यक्रम स्थल को रंगोली तोरणद्वार आदि से सजाया जा रहा है । गायत्री रत्ना ने बताया कि 15 दिनों के अथक प्रयास के बाद इस प्रांगण की सफाई संस्था के सदस्यों द्वारा की गई है ।इस कार्य मे स्थानीय लोगों का भरपूर सहयोग मिल रहा है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *