गोरखपुर

कौड़ीराम: नारियल में पानी से आग लगाकर, खून निकालकर बच्चों को बताया गया इसके पीछे का विज्ञान

सत्य चरण लक्क़ी
गोरखपुर: आज 21वी सदी के दौर में अंधविश्वास का खात्मा पूरी तरह हो रहा है और अंधविश्वास को पूरी तरह से खत्म करने हेतु एक कदम बढ़ाने का कार्य आज आर पी एम विद्यालय कौड़ीराम में क्षेत्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी केंद्र वीर बहादुर सिंह नक्षत्रशाला तथा विज्ञान व प्रौद्योगिकी परिषद उत्तर प्रदेश से आये वैज्ञानिकों व शिक्षकों के द्वारा कार्यक्रम “विज्ञान सबके लिए” में सम्पन्न किया गया।

इस जागरूक करने वाले कार्यक्रम में अलौकिक चमत्कार तथा अंधविश्वास में हुए विज्ञान प्रयोगों के प्रदर्शन व उनकी चर्चा की गई जिसमें नक्षत्रशाला के वैज्ञानिक व शिक्षकों ने बताया कि कैसे आपको अंधविश्वास से दूर रहना और यह जानना है कि यह चमत्कार नहीं विज्ञान है।

दिखाया गया चमत्कार और बताया गया इसके पीछे का विज्ञान

आर पी एम विद्यालय के 300 से ज्यादा होनहार विद्यार्थियों के मध्य सर्वप्रथम विकास चंद्र राय कोऑर्डिनेटर एस्ट्रोनॉमी आरएसटीसी तारामंडल गोरखपुर तथा प्रभात त्रिपाठी कोआर्डिनेटर आरएसटीसी तारामंडल गोरखपुर के द्वारा अद्भुत चमत्कार दिखाए गए। जिसमें नारियल में पानी से आग लगाना, पानी से हाथ रंगीन करना, माचिस को गायब करना ,ताश का जादू जादुई झोले से सामान को गायब करना, रस्सी को जोड़ना कागज को रुपए बनाना नारियल से खून निकलना गुब्बारे को ना पिचकने देना स्याही का ऊपर चढ़ना आदि दिखाया गया।

तत्पश्चात इन शिक्षकों के द्वारा इसके पीछे का विज्ञान समझाया गया और बताया गया कि हर वस्तु में विज्ञान छुपा हुआ है और जो जादूगर या झाड़ फूंक करने वाले चमत्कार दिखाते हैं वह चमत्कार नहीं बल्कि एक विज्ञान होता है।

इसके बाद बच्चों के द्वारा विभिन्न कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए। जिसमें विज्ञान प्रदर्शनी भाषण प्रतियोगिता आदि सम्मिलित थी। इस प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार कृष्णकांत दुबे को मिला। अन्य विद्यार्थियों को स्मृति चिन्ह व प्रमाण पत्र क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी डॉ अश्वनी कुमार मिश्रा के द्वारा प्रदान किया गया।

भाषण प्रतियोगिता में :-प्रथम पुरस्कार आयुष ज्योति पुरस्कार कृष्णकांत दुबे तृतीय पुरस्कार अक्षिता शुक्ला को प्राप्त हुआ
मॉडल प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार वर्किंग रोबोट को प्राप्त हुआ द्वितीय लाइ फाई तथा तृतीय पुरस्कार लाइट एंड फैन को प्राप्त हुआ।
इसी क्रम में स्लोगन और पेंटिंग प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार सर्वेश मौर्य द्वितीय पुरस्कार रितिका शाही तथा तृतीय पुरस्कार मुस्कान गुप्ता को प्राप्त हुआ।

इस मौके पर डॉ अश्वनी कुमार मिश्रा क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी ने छात्रों को बताया कि अध्यात्म और विज्ञान में क्या असमानताएं हैं , हर अध्यात्म में विज्ञान छुपा हुआ है जिसकी तलाश निरंतर की जा रही है ।। डॉ मिश्रा ने आगे कहा कि अंधविश्वास वैज्ञानिक सोच की कमी को प्रदर्शित करता है तथा हमें परंपरागत से अच्छी बातों को अपनाकर विज्ञान के नजरिए से देखना चाहिए जिससे वैज्ञानिक वातावरण बने और सामाजिक विकास हो।

उक्त अवसर पर वैज्ञानिक अधिकारी महादेव पांडे ने कहा कि अंधविश्वास सामाजिक विकलांगता जैसे संक्रामक बीमारी है जिससे ग्रामीण जनता शिकार होकर जान जोखिम में डालते है अत: हमें अध्यात्म को विज्ञान से जोड़कर देखा जाना चाहिए।

विद्यालय के प्रधानाचार्य राजीव सिंह व सहायक निदेशक प्रेम लता शाही ने कार्यक्रम की उपयोगिता बताते हुए कार्यक्रम की सराहना की तथा संचालन कर रहे प्रभात त्रिपाठी मोहम्मद आलम पूजा राय धनंजय प्रसाद रजत मंडल वेद प्रकाश पांडे व देवेंद्र कुमार दुबे सुरेश कुमार पप्पू लाल सहित सभी का धन्यवाद दिया।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *