गोरखपुर

दयाशंकर-मायावती मामला: योगी बोले, एक जैसे अपराध के लिए दो तरह के मानक पर काम नहीं कर सकती पुलिस

BJP-MP-Adityanathगोरखपुर: दयाशंकर सिंह प्रकरण में अभी तक बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या के आह्वान पर पूरे प्रदेश में हो हल्ला मचा हुआ था। अब इसी कड़ी में गोरखपुर के सदर सांसद योगी आदित्यनाथ भी कूद पड़े है।
उन्होंने प्रदेश पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा कि उप्र पुलिस एक जैसे अपराध के लिए अलग-अलग व्यक्ति पर कार्यवाही का मानक अलग-अलग नहीं बना सकती। पुलिस किसी प्रकरण में पार्टी बनने के बजाए जैसे दयाशंकर सिंह की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है उसी प्रकार से उन दोषियों की गिरफ्तारी होनी चाहिए जिन्होंने दयाशंकर सिंह की पत्नी और बेटी के बारे में अभद्र भाषा का प्रयोग किया।
उन्होने कहा कि जिस अभद्र भाषा का प्रयोग बहुजन समाज पार्टी के नेताओं ने किया है कोई भी सभ्य समाज इस प्रकार की भाषा का प्रयोग नहीं कर सकता। भाजपा से निष्कासित दयाशंकर सिंह ने मीडिया के माध्यम से माफी भी मांगी थी, पार्टी ने उन्हें निष्कासित भी किया। लेकिन बसपा के नेताओं ने इस प्रकार की कोई माफी नहीं मांगी और बसपा मुखिया ने अभी तक किसी के खिलाफ भी कोई कार्यवाही नहीं की।
योगी ने दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति सिंह द्वारा उठाए गए मुद्दों का समर्थन करते हुए कहा कि उन्होने जो मुद्दे उठाए हैं उसका समर्थन प्रत्येक व्यक्ति को पार्टी लाईन से ऊपर उठकर करना चाहिए। यह आश्चर्यजनक है कि पुलिस दयाशंकर सिंह की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है लेकिन जिन्होंने प्रदर्शन के दौरान अभद्र भाषा का प्रयोग किया उनकी गिरफ्तारी नहीं कर रही है।
योगी ने कहा कि किसी के प्रति व्यक्तिगत चरित्रहरण की टिप्पणी उचित नहीं है लेकिन जो लोग इस प्रकरण को तूल दिए हैं । उन्हें अपने अतीत में भी झांकना चाहिए। कैसे उन्होंने जातीय विष बमन करके सामाजिक ताने-बाने को छिन्न-भिन्न करने का कुत्सित प्रयास किया था।
योगी ने कहा कि न्याय सबके साथ हो लेकिन जो किसी के खिलाफ एकतरफा कार्यवाही अगर उ.प्र. सरकार करेगी तो उसका पुरजोर विरोध भी होगा।
LIKE US:

fb

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *