शहर में सड़क जाम की समस्या हुई विकराल घंटो कराहते रहे लोग

सिद्धार्थनगर: सड़क जाम की समस्या नौगढ़ के लोगों की नियती बन गयी है। शायद ही कोई दिन ऐसा हो जब यहां के लोगो को जाम से जूझना न पड़ता हो. आए दिन शहर से होकर गुजरने वाले मार्गो पर भिन्न-भिन्न स्थानों पर जाम से गाड़ियों की लम्बी कतार लग जाती है. जाम की समस्या के बाबत स्थानीय लोगो का कहना है कि वैकल्पिक सड़क व्यवस्था न होने से शहर से होकर ही बड़े और भारी वाहनों को गुजरना पड़ता है।

जिससे आए दिन शहर में पर जाम की स्थिति भयावह हो जाती है. जाम के कारण स्कूली बच्चों की गाड़ियाँ भी घंटों फंसी रहती है. जिससे बच्चों को भूखे प्यासे गाड़ियों में ही कैद रहना पडता है. वही अभिभावकों तथा स्कूल के शिक्षकों का आरोप है कि यदि प्रशासन स्कूलों की छुट्टी के समय यातायात व्यवस्था को नियंत्रण करने का प्रयास करे तो बच्चों को इस समस्या से निजात दिलाया जा सकता है।

मंगलवार को शहर में साप्ताहिक बाज़ार लगने की वजह से अपेक्षाकृत ज़्यादा भीड़ भी रहती है। जिसकी वजह से यह जाम घंटो बना रहता है मानो शहर थम सा गया हो। बच्चों से भरे स्कूलों के कई बस भी इसी जाम में फँसे रहते हैं। ऐमबुलेंस और सरकारी बसों का भी वही हाल है।

वही दूसरी तरफ प्रशासन का कहना है कि सड़क पर चलने वाले छोटे-छोटे वाहनों के चालकों द्वारा यातायात नियमों का पालन न किया जाना ही इस समस्या का मूलकारण है. प्रशासन अक्सर सड़क अतिक्रमण को हटाने के लिए अभियान छेड़ती है।

परन्तु फुटपाथी दुकानदारों द्वारा फिर से सड़क किनारे दुकाने लगा ली जाती है. जिससे भी सड़क जाम की समस्या का सामना करना पडता है. प्रशासन के अधिकारियों का कहना है कि यदि आम जनता सहयोग करे तो यातायात की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।

डिवाइडर की भी माँग समय-समय पर तेज़ी से उठती रहती हैं। नगर पालिका ने धन निकासी हेतु डिवाइडर बनवाया लेकिन सड़क चौड़ीकरण नही करवाया सड़क बहुत कम चौड़ी पहले से थी अब डिवाइडर बन जाने के कारण बड़ी गाड़ियों का आवागमन जैसे ही होता है आगे पीछे जाम जैसी परिस्थिति बनी रहती है।