गरीबों के निवाले पर डाका, बाल्टी बनी तराजू; चार माह से नही मिली चीनी

TIME
TIME
TIME

कुशीनगर (मोहन राव): कप्तानगंज थाना अन्तर्गत ग्राम पंचायत लक्ष्मीपुर में उचित दर विक्रेता के द्वारा वितरण में की जा रही घोर अनियमितता, मानक से अधिक मूल्य लेकर दिया जाता है मिट्टी का तेल, कई कार्ड धारको ने बताया कि 4 माह से नही मिली है चीनी। बाल्टी से नापकर दिया जाता है खाद्यान्न। उक्त मापन यंत्र नियम विरूद्व उक्त प्रकरण मे मिली शिकायत के अधार पर पत्रकारों की की टीम द्वारा की गयी जांच मे भारी खामिया मिली। अधिकारियों ने कहा कि उक्त मामला गम्भीर है और दोषियों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्यवाही की जायेगी।

प्राप्त समाचार के अनुसार मोतीचक विकास खंड व कप्तानगंज थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत लक्ष्मीपुर के उचित दर विक्रेता निजामुद्दीन द्वारा खाद्य विभाग के नियमों को धत्ता बताते हुये मानक के विपरीत मुल्य लेकर मिट्टी का तेल 23 रू/ लीटर, विगत चार माह से चीनी न देना, एक यूनिट पर खाद्यान्न के रूप मे गंहू चावल मिलाकर मात्र दिया जाता है 4 किलो, गोदाम से नियमानुसार गेहू चावल का बोरा उठाकर घर लाकर बोरा मे हेरा फेरी करना, मौके पर तौल के बाद 44 किलो का मिला चावल का बोरा।

कार्ड धारको द्वारा कई माह से शिकायत की जा रही थी। उक्त उचित दर विक्रेता द्वारा वितरण मे भारी अनियमितता कर प्रति कार्ड धारको के हको मे भारी घोटाला किया जा रहा है। जैसे कि अगर 10 यूनिट है तो उसपर 16 किलो खाद्यान्न दिया गया था और इसका कोई पुरूषाहाल नही है।

पत्रकारो की संयुक्त टीम कोटेदार के घर पहुंचकर वितरण व्यवस्था का हाल देखकर सन्न रह गये। कई कार्ड धारको ने बयान भी दिया वितरणा पूछा गया आज क्यो हो रहा है तो कोटेदार ने कहा कि लखनऊ चला गया था इस लिए आज बांट रहा हूं। बाल्टी से नापने वाले व्यक्ति को बताया कि यह भाड़े का व्यक्ति है प्रतिदिन दो सौ रूपये इसे मजदूरी के रूप मे देता हू।

बताया जाता है कि उक्त कोटेदार दबंग व मनबढ़ किस्म का व्यक्ति है और अपने को उंची पहुंचवाला बताकर लोगो मे भय पैदा किये रहता है। और कहता है कि उच्चाधिकारियो तक माल खिलाता हूं मेरा कोई कुछ नही बिगाड़ सकता है। इतनी बड़ी अनियमितता के बाद भी तहसील आपूर्ति निरीक्षक, उपजिलाधिकारी कप्तानगंज और प्रवेक्षक को इसकी भनक तक नही, जो कि काफी हास्यपद है।

इस सम्बंध मे पुछे जाने पर उपजिलाधिकारी कप्तानगंज अरूण कुमार ने बताया कि मामला बेहद गम्भीर है मामला संज्ञान मे आया है शिकायत प्राप्त होते ही विभागीय कानूनी कार्यवाई हर हाल मे की जायेगी।