डीडीयू में नेपाली छात्रों के हास्टल के बाद अब अनुसूचित संवर्ग की छात्राओं के लिए भी बनेगा हास्टल

गोरखपुर: दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में दूसरे जनपदों से आकर पढ़ाई करने वाली अनुसूचित जाति की छात्राओं को अब शहर में रहने की दिक्कते नहीं होगी। मुख्यमंत्री की पहल पर अब अनुसूचित संवर्ग की छात्राओं के लिए अम्बेडकर चौराहे के समीप छात्रावास का निर्माण होगा। जो समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित होगा।

बता दें कि दूसरे जनपदों से महानगर आकर विद्या ग्रहण करने वाली छात्राओं के रहने हेतु बनने वाले छात्रावास के लिए प्रस्तावित भूमि का मंडलायुक्त अनिल कुमार ने निरीक्षण भी कर लिया है। निर्माण कार्य में प्रस्तावित व्यय के लिए विस्तृत रिपोर्ट तैयार की जा रही है। हालांकि भूमि स्थानांतरण से पूर्व इसके लिए विश्व विद्यालय कार्य परिषद की मंजूरी आवश्यक होगी।

मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ ने छात्राओं के आवास निर्माण के लिए समाज कल्याण विभाग को प्रस्ताव बनाकर भेजने का निर्देश दिया है। जिस पर काम शुरू भी हो गया है। छात्रावास निर्माण के लिए महानगर के अंबेडकर चौराहा से सटे याक्ची कंपाउंड में स्थान देखा गया है। समाज कल्याण विभाग को भूमि स्थानांतरित करने बाबत विश्वविद्यालय प्रशासन से मौखिक रजामंदी भी दे दी है। सब कुछ ठीक रहा तो पूर्व में हीरा होटल की जगह अब प्रस्तावित बालिका छात्रावास होगा।

नया छात्रावास समाज कल्याण विभाग द्वारा ही संचालित किया जाएगा। हालाँकि इसके पूर्व विश्व विद्यालय में पढ़ने वाले नेपाली छात्रों के लिए विश्व विद्यालय में एक ओर छात्रावास निर्माण का काम भी जल्द शुरू होने जा रहा है। इसके लिए पूर्व मुख्य मंत्री अखिलेश यादव ने विश्व विद्यालय परिसर में आयोजित एक कार्यक्रम में विश्वविद्यालय में अंतरराष्ट्रीय छात्रावास निर्माण की घोषणा की थी, जिसके लिए अब प्रशासकीय स्वीकृति के साथ 4 करोड़ रुपये भी मिल चुके हैं।

हालांकि इस छात्रावास के लिए भूमि का चयन अब तक नहीं हो सका है। इसके साथ ही अपने मुख्यमंत्रित्व काल के प्रथम महानगर आगमन पर योगी आदित्यनाथ ने सहजनवा के अनंतपुर क्षेत्र में आश्रम पद्धति विद्यालय खोलने को भी हरी झंडी दी थी ।साथ ही लालडिग्गी क्षेत्र में संचालित बाबू जगजीवन राम छात्रावास भवन का जीर्णोद्वार कराए जाने का प्रस्ताव भी है।