तो क्या नवनिर्वाचित विधायक संस्कृत में लेंगे शपथ!

गोरखपुर: हिंदी, हिन्दू, हिंदुस्तान का नारा देने वाले आर एस एस के अंदरूनी तौर पर सहयोग से उत्तर प्रदेश में भाजपा को प्रचंड बहुमत मिलने के बाद से ही संघ ने अपने प्रारूप पर अब धीरे धीरे आगे बढ़ना शुरू कर दिया है। जिसके लिए प्रदेश के नवनिर्वाचित विधायकों के शपथ ग्रहण समारोह में संस्कृत भाषा में शपथ दिलाये जाने की तैयारी लगभग पक्की है।

बता दें कि प्रदेश में बहुमत मिलने के बाद से ही भाजपा पहले दिन से ही अपने एजेण्डे को आगे बढ़ाना चाहती है। हालाँकि यह एजेंडा उनकी मातृ संस्था आर एस एस का है। एजेंडे के तहत राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ गोरक्ष प्रांत भाजपा के नवनिर्वाचित विधायकों से संस्कृत भाषा में शपथ ग्रहण करवाना चाहता है। उसके प्रयास से गोरक्ष क्षेत्र के अधिकतर विधायकों ने संस्कृत भाषा में शपथ ग्रहण करने की स्वीकृति भी दे दी है।

भाजपा शुरू से ही संस्कृत भाषा के उत्थान के लिए प्रयासरत रही है। ऐसे में जब भाजपा ने उत्तर प्रदेश के विधान सभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत दर्ज की है तो वह अपने एजेण्डे का प्रचार-प्रसार करने से प्रदेश में चूकना नही चाहेगी।इसी के तहत संस्कृत भाषा के प्रचार-प्रसार का भाजपा के मातृ संगठन आरएसएस ने बीड़ा उठाया है।
आरएसएस की संस्था संस्कृत भारती गोरक्ष प्रांत ने अपने क्षेत्र के 11 जिलों के 31 भाजपा से विजयी विधायकों से संस्कृत भाषा में शपथ लेने के लिए सम्पर्क किया है।

इनमें से 24 विधायकों ने संस्कृत भाषा में शपथ ग्रहण करने की स्वीकृति भी प्रदान कर दी है। इन विधायकों में नगर विधायक डा़. राधा मोहन दास अग्रवाल, चौरीचौरा विधायक संगीता यादव, जटाशंकर त्रिपाठी, फागू चौहान, गंगा सिंह कुशवाहा समेत कई अन्य के नाम प्रमुख हैं। आरएसएस ने विधायकों के सहूलियत के लिए संस्कृत भाषा में शपथ ग्रहण का एक शपथ पत्र तैयार कराया है। साथ ही संस्कृत भाषा में ही एक आडियो टेप भी बनवाया है। इसे उन विधायकों को प्रेषित किया जा रहा है, जिससे शपथ लेने के समय उन्हें किसी तरह की समस्या का सामना न करना पड़े।

विजयी विधायकों से सम्पर्क साधने के लिए भाजपा क्षेत्रीय कार्यालय ने संस्कृत भारती को विधायकों की सूची और उनके मोबाइल नम्बर उपलब्ध कराया है। जिससे वह भाजपा विधायकों से सम्पर्क साध रहे हैं।

इस संदर्भ में संस्कृत भारती गोरक्ष प्रांत के प्रांत मंत्री डा़ जोखन पाण्डेय ने बताया कि 31 के अलावा भी अन्य विधायकों से हमारे जिला संयोजक सम्पर्क कर उनसे संस्कृत भाषा में शपथ लेने का अनुरोध कर रहे हैं।