जरूर पढ़े

बाबा गोरखनाथ की नगरी गोरखपुर में दिखी दुनिया की सबसे बड़ी उड़नतश्तरी, तस्वीरें सोशल मीडिया पर हुईं वायरल

UFO-seen-in-Gorakhpur-(Pictगोरखपुर संवाददाता
गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर शहर में शनिवार की दोपहर ढाई बजे लोगों ने आसमान में उड़नतश्तरी की विशाल आकृति देखी। यहाँ के पादरी बाजार के लोगो ने दावा किया उन्होंने उड़नतश्तरी की विशाल आकृति देखी जो फिल्मों में दिखने वाली उड़नतश्तरी जैसी ही लग रही थी।
कुछ नौजवानों ने इस कथित उड़नतश्तरी की आकृति को अपने मोबाइल में कैद किया और कुछ ही समय में ये तश्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो गयी।
गोरखपुर में एक राष्ट्रीयकृत बैंक के अधिकारी बृजेश सिंह ने फाइनल रिपोर्ट को बताया की वो दोपहर ढाई बजे के लगभग अपने कुछ मित्रों के साथ एक व्यक्ति से मिलने पादरी बाजार जा रहे थे तभी संगम चौराहे पर एक ट्रैक्टर खंभे से टकराया। उससे चिंगारी निकली तो लोग शोर मचाने लगे। आसपास के लोग भागकर दूर चले गए।
श्री सिंह ने बताया की इस एक्सीडेंट की फोटो मोबाइल में लेने के दौरान ही आसमान में उड़नतश्तरी की आकृति भी फोटो में आ गयी।

UFO-seen-in-Gorakhpur-2-(Piहालांकि इस मामले में अभी यह पुष्ट नहीं हो सका है कि यह वाकई में उड़नतश्तरी है या नहीं।

गोरखपुर प्रशासन ने भी उड़नतश्तरी वाली बात को पूरी तरह अफवाह बताया। डीएम रंजन कुमार और एसएसपी लव कुमार ने कहा कि ऐसी कोई अधिकारिक सूचना नहीं मिली है। प्रशासन और पुलिस के अन्य अधिकारियों ने भी उड़नतश्तरी की पुष्टि नहीं की।
आसमान में दिखने वाली आकृति युएफओ थी या नहीं लेकिन एक बात तो तय है की इतनी विशालकाय आकृति का आसमान में दिखना महज एक संयोग नहीं हो सकता है।
यह पहला मामला नहीं है जब की उत्तर प्रदेश के किसी शहर में उड़नतश्तरी जैसी आकृति देखी गयी है। इससे पहले लखनऊ और कानपुर में भी उड़नतश्तरी देखने के दावे सामने आए हैं।
UFO-seen-in-Gorakhpur-3-(piयह मामला उन मामलों से काफी अलग है। इस बार उड़नतश्तरी का विशालकाय रूप दिखा है। संभवत: पहली बार किसी ने इतनी बड़ी उड़नतश्तरी देखी है। कानपुर और लखनऊ में देखी गईं उड़नतश्तरी काफी दूर होने के कारण दिखने में छोटी थीं। हालांकि लखनऊ में देखी गई उड़नतश्तरी की वैज्ञानिकों ने भी पुष्टि की थी।
आइये एक नज़र डालते हैं भारत में दिखी उड़नतश्तरी की क्रोनोलॉजी पर:
इसी साल 25 जून को कानपुर के श्यामनगर निवासी संतोष गुप्ता के बेटे ने मोबाइल से उड़नतश्तरी की तस्वीरें क्लिक कीं।
11 जुलाई 2014 गोवाहाटी, में देखा गया।
14 जुलाई 2014 को टूंडला में देखा गया। (वैज्ञानिकों ने प्रथम दृष्टया पुष्टि की)
14 जुलाई 2014 को बोकारा स्टील झारखंड में देखा गया। (वैज्ञानिकों ने प्रथम दृष्टया पुष्टि की)
19 जुलाई 2014 को शामली में यूएफओ देखे जाने की सूचना खगोल वैज्ञानिकों को मिली थी।
25 फरवरी 2014 को भारत-पाकिस्तान सीमा पर कथित यूएफओ दिखने के दावे के बाद सुखोई-30 विमान को इसकी खोज में भेजा गया।
19 अगस्त 2013 को लद्दाख में भारतीय सेना के जवानों ने लाइन ऑफ ऐक्चुअल कंट्रोल के पास आसमान पर उड़ती हुई कोई चीज देखी। लद्दाख के देमचोक
में लगान खेल इलाके में जवानों ने इसे देखा और यूएफओ (अनआइडेंटिफाइड फ्लाइंग ऑब्जेक्ट) बताया।
4 अगस्त 2013 को भी लद्दाख में यूएफओ को देखने का मामला सामने आया था।
24 अगस्त 2008 को यूपी के बिजनौर में यूएफओ देखे जाने की खबर आई थी।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *