जरूर पढ़े

मिनी सीएम ऑफिस गोरखनाथ मंदिर के दफ्तर में लग रहे कम्प्यूटर, सुरक्षा मानकों से हो रहा लैश

गोरखपुर: गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ के सीएम बनने के बाद मुख्य मंत्री कैम्प कार्यालय में तब्दील गोरखनाथ मंदिर में बड़ी मात्रा में रोजाना पहुंच रहे फरियादियों की सुनवाई के लिए वहां बाकायदा एक दफ्तर काम करने लगा है। गोरखनाथ मंदिर परिसर में आने-जाने वालों के सामानों और उनकी कार की भी सघन जांच हो रही है। सुरक्षा घेरा और मजबूत करते हुए सुरक्षा कर्मियों की संख्या भी बढ़ाई गई है। प्रशासन ने यहां बैगेज स्कैनर और कार मिरर और बैगेज स्कैनर मंदिर परिसर में लगवा दिया है।
बता दें कि सुरक्षा के मद्देनजर गोरखनाथ मंदिर पर हमेशा सख्त पहरा रहता है। लेकिन महंत योगी आदित्यनाथ के सीएम बनने के बाद इन दिनों सुरक्षा घेरा और बढ़ा दिया गया है। सीएम योगी आदित्यनाथ के कैम्प कार्यालय में तब्दील मंदिर परिसर में चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा कर्मी तैनात किए गए हैं। मंदिर परिसर में पहले से ही पुलिस चौकी स्थापित है। साथ ही पूरे परिसर में सीसी कैमरे लगवाए गए हैं। कंट्रोलरूम से बाकायदा उसकी मानीटरिंग की जा रही है।
मन्दिर में सुरक्षा घेरा मजबूत करने के लिए जिला प्रशासन ने मंदिर में आने-जाने वालों के सामानों और गाड़ियों की चेकिंग की भी व्यवस्था कर दी है। मंदिर की सुरक्षा में किसी भी प्रकार की चूक नहीं होने पाए, इसको देखते हुए सुरक्षा घेरा मजबूत कर लगातार निरीक्षण किया जा रहा है । जो भी जरूरत महसूस हो रही है, उसे पूरा किया जा रहा है।
मंदिर परिसर में रहने और उसे जुड़े होने की वजह से हमेशा आने-जाने वालों को परिचय पत्र जारी किया जा रहा है। साथ ही उसका पूरा रिकॉर्ड सुरक्षा कर्मियों को भी उपलब्ध कराया जाएगा। सीएम के गोरखपुर निवास के समय जरूरत पड़ने पर सुरक्षाकर्मी उसका मिलान कर सकेंगे।
गोरक्षनाथ मन्दिर स्थित सीएम कैम्पिंग कार्यालय में आ रहे फरियादियों की समस्या निवारण के लिए यहाँ पर आईजी, डीआईजी, डीएम, एसएसपी, विकास भवन और बिजली सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी-कर्मचारी बैठ रहे हैं। जल्द ही यहां हर विभाग के सरकारी कम्प्यूटर भी लग जाएंगे जिससे फरियादियों की शिकायत तत्काल स्कैन कर प्रक्रिया में लाई जा सके। एक बार प्रक्रिया में आ जाने के बाद शिकायत पर तुरंत कार्यवाही भी शुरू हो जाएगी।
मंदिर में कार्यालय प्रभारी द्वारिका तिवारी ने बताया फरियादियों की भीड़ रोज लगातार बढ़ती जा रही है। रोज हजारों की संख्या में लोग पहुंच रहे हैं। अभी उनके शिकायतें मंदिर के पुराने कार्यालय और बगल हाल में बने सरकारी अधिकारियों-कर्मचारियों के नए कार्यालय में ली जाती हैं। बाद में ये शिकायतें अलग-अलग दफ्तरों में जाती हैं जहां सरकारी कर्मचारी इसे जनसुनवाई पोर्टल पर अपलोड करते हैं और अधिकारी कार्रवाई का आदेश देते हैं। उन्होंने कहा कि इस प्रक्रिया में और तेजी लाने के लिए मंदिर में ही कम्प्यूटर लगाए जाएंगे। इस पर अधिकारियों से बात हो गई है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *