जरूर पढ़े

अब तीन तलाक से जुड़े मामले भी न्याय की फरियाद में पहुंच रहे है योगी आदित्यनाथ के गोरक्षनाथ मन्दिर

गोरखपुर: योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद गोरखनाथ मंदिर में फरियादियों की बाढ़ सी आ गई है, लेकिन कुछ फरियादी ऐसे हैं जिनकी समस्याएं औरों से अलग है। शुक्रवार को गोरखनाथ मंदिर में तीन तलाक से संबंधित ऐसे ही दो मामले आये। दो पीड़ित मुस्लिम महिलाओं को उनके पतियों ने फोन पर ही तीन बार तलाक कहकर छोड़ दिया। दोनों शुक्रवार को मंदिर पहुंची और सीएम के नाम अपनी फरियाद देकर न्याय की गुहार लगाई।
केस नम्बर एक : कादरा बानो, नौरंगाबाद गोरखनाथ। कादरा की शादी तीन साल अप्रैल 2014 में पीएसी कालोनी बाराबंकी निवासी परवेज आलम से हुई थी। शादी के बाद कादरा के पति और ससुरालों वालों ने दहेज के लिए परेशान करना शुरु कर दिया। कादरा ने एक बच्ची को जन्म दिया। बच्ची के पैदा होने पर कादरा के ससुराली उसे ज्यादा परेशान करने लगे। एक साल पहले कादरा के मायके वाले बाराबंकी जाकर उसे गोरखपुर लेते आये। एक वर्ष पूर्व कादरा के पति परवेज ने कादरा को फोन पर ही तीन बार तलाक, तलाक, तलाक कहकर अलग कर दिया। इसका मामला कोर्ट में चल रहा है।
केस नम्बर दो : हसरत जहां ग्राम कम्हरिया, महराजगंज। हसरत की शादी तीन साल पहले महराजगंज के ग्राम बड़गांव के रहने वाले अब्दुल वहाब से हुई थी। वहाब की यह दूसरी शादी थी। वहाब सऊदी अरब रहता है। वहाब ने एक साल पहले उसे सऊदी अरब से ही फोन पर तलाक दे दिया और तीसरी शादी भी कर ली। हसरत ने इसकी शिकायत महराजगंज के सिसवां थाने में की लेकिन इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं हुई। शुक्रवार को मंदिर पहुंचकर हसरत ने न्याय की गुहार लगाते हुए मंदिर प्रशासन को मुख्यमंत्री को संबोधित पत्र सौंप कार्रवाई की मांग की।
इस मामले में मंदिर के कार्यालय प्रभारी द्वारिका तिवारी ने बताया कि दोनों ही मामलों की शिकायत मिली है। कादरा के ससुराल वालों से बात कर उन्हें गोरखनाथ मंदिर बुलाया गया है। हसरत जहां के ससुराल वालों से सम्पर्क साधने का प्रयास किया जा रहा है ,लेकिन अबतक उनसे सम्पर्क नहीं हो सका है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *