कुशीनगर में परिषदीय विद्यालयों की व्यवस्था चरमराई

कुशीनगर(मोहन राव):  जनपद के हाटा तहसील क्षेत्र में परिषदीय विद्यालयों में दयनीय शिक्षा व्यवस्था के लिये सबसे ज्यादा दोषी विभाग के अधिकारी ही हैं। जो विद्यालयों की प्रतिदिन निर्धारित समय  पर निरीक्षण करने से परहेज करते हैं।
सुकरौली ब्लॉक के तत्कालीन खंड शिक्षा अधिकारी रहे महेंद्र प्रसाद के स्थानान्तरण के बाद ब्लॉक क्षेत्र के बुनियादी शिक्षा के मंदिर अब धन उगाही के केंद्र बन गए। शिक्षा की गुणवत्ता पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। मिड डे मील ड्रेस आदि बना है कमाई का जरिया।
जी हां अगर आप  सुकरौली ब्लॉक के किसी परिषदीय स्कूलों की शिकायत दर्ज कराने के लिए अगर खण्ड शिक्षा अधिकारी सुकरौली के सरकारी नम्बर पर डायल करते हैं तो आपका वह फोन किसी एनपीआरसी या चपरासी के पास मौजूद रहता है।  सबसे अहम बात यह है कि यहां चपरासी ही कर रहे हैं स्कूलों का निरीक्षण।
सुकरौली ब्लॉक में इस समय परिषदीय विद्यालयों का निरीक्षण विभाग के चपरासी कर रहे हैं। जबकि विभाग के जिम्मेदार अधिकारी के द्वारा कभी विद्यालयो में जाकर नही परखी जाती छात्रो की पठन पाठन की शैक्षिक योग्यता अथवा अध्यापकों के पढ़ाने का तरीका।
गोरखपुर से आने वाले यह खण्ड शिक्षा अधिकारी जनपद के दो ब्लॉक के चार्ज का बोझ उठा रहे हैं जिसकी वजह से यह सुकरौली बीआर सी केंद्र पर महीने में 2 से 4 दिन ही दिखाई देते हैं और ऑफिस में बैठकर ही पूरा करते हैं अपने दायित्व। बहुत ही दयनीय हो चुकी है ब्लॉक की बेशिक विद्यालयो की शैक्षिक व्यवस्था। मोबाइल वाट्स एप पर हाजिरी जांचने की जगह स्कूलो में जाकर शैक्षिक गुणवत्ता परखे वातानुकूलित कमरों में से निकलकर अगर क्षेत्रीय विद्यालयों की समय से मॉनिटरिंग करें विभाग के अधिकारी तो खुल जाएगी पोल ।
उक्त ब्लॉक में दर्जनों शिक्षक शिक्षिकाएं महीने में 2 बार या 4 बार ही अपनी हाजिरी लगाने आते हैं।सूत्रों की माने तो उक्त गैरहाजिर रहने वाले शिक्षकों से सुविधा शुल्क के नाम पर मोटी रकम वसुला जाता है।रकम वसूल करने के लिए विआरसी भवन सुकरौली में नियुक्त एक संविदा कर्मी को  विभाग के अधिकारियों द्वारा लगाया गया है जो अनुपस्थित रहने वाले लापरवाह  शिक्षकों से मोटी रकम  सुविधा शुल्क के रूप में वसूलता है।
ऐसे में इस ब्लॉक के परिषदीय विद्यालयों में पढ़ने वाले मासूमों का भविष्य अंधकारमय होता नजर आ रहा है।
क्या कहते हैं  बीएसए
मामले के सम्बंध में बात करने पर बीएसए डॉक्टर मनोज कुमार मिश्रा ने कहा कि सुकरौली ब्लॉक में परिषदीय विद्यालयों में अनुपस्थित रहने  वाले एवं समयानुसार अपने दायित्वों का निर्वहन नही करने वाले लापरवाह शिक्षकों के विरुद्ध शिघ्र ही व्यापक तरीके से जांच कर कार्यवाही किया जाएगा।