महराजगंज

सिसवा में हुए एटीएम ऑउट ऑफ़ सर्विस तो बैंक ऑउट ऑफ़ कैश

bank-in-siswaमहराजगंज: पांच सौ एवं एक हज़ार के नोटों को बन्द किये जाने के बाद शहर से लेकर गाँव तक के हर कुनबे के जीविकोपार्जन की स्थिति ठहर सी गयी है। हर कोई अपने पास प्रचलन में बन्द हो चुके नोटों को जमा करने के लिये परेशान है। तीन दिनों से बैंकों का चक्कर लगाने के सिवाय कोई दूसरा काम नहीं दिखायी दे रहा है।
बैंकों द्वारा जमा एवं भुगतान में अपनायी जाने वाली प्रक्रिया से लोगों के पसीने छूट रहे हैं। रिजर्व बैंक द्वारा जारी आदेश बेमानी साबित हो रहा है। शनिवार को तीसरे दिन की हालात पर नज़र डालें तो अपनी समस्या को लेकर जनता ऑउट ऑफ़ कन्ट्रोल, ए टी एम ऑउट ऑफ़ सर्विस तथा बैंक ऑउट ऑफ़ कैश हो चुके हैं।
bank-in-siswa-1शनिवार को सिसवा क्षेत्र के अनेक बैंकों में जहाँ भुगतान हेतु धन ही नहीं था। वही कई बैंकों ने चार हज़ार की जगह एक से दो हज़ार तक का ही भुगतान व एक्सचेंज किया। ऐसे में शुरू हो चुके लगन में शादियां कैसे होंगी, लोगों के पैरों तले धरती सरकती नज़र आ रही है।
पूर्वांचल ग्रामीण बैंक व सेन्ट्रल बैंक में तीसरे दिन लोगों के पैसे तो जमा हुये परन्तु धन न होने के कारण लोगों को भुगतान या नोट नहीं बदले जा सके। भारतीय स्टेट बैंक कामर्शियल शाखा, एस बी आई कृषि विकास शाखा, पंजाब नेशनल बैंक व यूनियन बैंक में ग्राहकों की लम्बी कतार प्रातः 6 बजे से ही लगनी शुरू हो गयी। परन्तु लोगों को रिजर्व बैंक के आदेश के अनुसार इन बैंकों ने भुगतान नहीं दिया।
जहाँ भारतीय स्टेट बैंक, एस बी आई कृषि विकास शाखा व यूनियन बैंक ने चार की जगह मात्र दो हज़ार रुपये का ही भुगतान ग्राहकों को दिया गया। वहीं पंजाब नेशनल बैंक द्वारा मात्र एक हज़ार रुपये का ही भुगतान दिया गया। यहाँ सरकार आदेश के बावजूद भी दस हज़ार तक के चेकों का भुगतान भी नहीं किया गया।
दुकानों पर सन्नाटा छाया रहा। दुकानदार ग्राहकों से पांच सौ रूपये के नोट लेने से आज भी इंकार करते रहे। पेट्रोल पम्पों पर पांच सौ रूपये के ही पेट्रोल आज भी भरे गये। ग्रामीण क्षेत्रों सबयां, कटहरी, करमही, चिउटहां स्थित बैंकों पर भी जमाकर्ताओं की लम्बी लाइन लगी रही।
गाँवों के अनेक परिवार ऐसे हैं जिनके पास मात्र हज़ार, पांच सौ के दो से पांच हज़ार तक ही रूपये हैं। परन्तु वह एक्सचेंज या फुटकर न हो पाने के कारण लोगों के घरों में चूल्हे बन्द होने की स्थिति उत्पन्न हो गयी है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *