महराजगंज

सिद्धार्थनगर में बाढ़ से अब तक दो की मौत, बढनी गोरखपुर रेलवे लाइन बंद

flood-in-siddarthnagarसिद्धार्थनगर: शोहरतगढ़ तहसील में बाढ़ से अब तक दो लोगों की मौत हो गयी है। मंगलवार को बानगंगा बैराज का बांध टूटा था। एनडीआरएफ की टीम का रेस्क्यू आपरेशन जारी है और अबतक 140 लोगों का रेस्क्यु किया गया है। बढनी गोरखपुर रेलवे लाइन बंद हो गयी है तो वही गोरखपुर गोण्डा रेलवे खंड के परसा रेलवे ट्रैक पर बाढ़ का पानी चढ़ गया है।
भारतीय क्षेत्र के साथ ही नेपाल में हो रहे मूसलाधार बारिश से जिले की नदियां उफान पर हैं। बानगंगा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। इसके दबाव से जहां बानगंगा एफलेक्स बंधे पर मसिना व झरूआ के पास हुई जबर्दस्त कटान से सैकड़ों गांव जलमग्न हो गए हैं। इसके अलावा बौद्ध परिपथ पर गांव हलौरा के पास सड़क पर तीन फुट पानी बह रहा हैं,जिससे आवागमन अवरुद्ध हो गया है।
कटान की सूचना मिलते ही डीएम, एसपी व अन्य अफसरों ने मौका मुआयना किया और निरोधात्मक कार्य करने के साथ ही जलमग्न वाले गांवों में राहत बचाव के लिए संबंधित को कड़ी हिदायत दी है।ड्रेनेज खंड के बाढ़ नियंत्रण कक्ष से मंगलवार को सायं 4 बजे तक प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक नेपाल की पानी ने भारतीय क्षेत्र में तबाही मचाना शुरू कर दिया है।
बानगंगा व घोघी नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है, जबकि राप्ती, बूढ़ी राप्ती, कूड़ा, तेलार, जमुआर नदी खतरे के निशान से काफी करीब बह रही है। अगर यही हाल रहा तो यह सभी नदियां भी खतरे के निशान को पार कर जाएंगी। कंट्रोल रूम के मुताबिक बानगंगा नदी 93.420 मीटर खतरे के सापेक्ष 94.70 मीटर, जमुआर नदी 84.89 मीटर खतरे के सापेक्ष 82.60 मीटर, राप्ती नदी 84.900 मीटर खतरे के सापेक्ष 84.040 मीटर, बूढ़ी राप्ती नदी 85.650 मीटर खतरे के सापेक्ष 84.845 मीटर, तेलार नाला 87.500 मीटर खतरे के सापेक्ष 86.50 मीटर, कूड़ा नदी आलमनगर में 87.200 मीटर खतरे के सापेक्ष 87.60 मीटर, उसका रेलवे पुल 83.520 मीटर खतरे के सापेक्ष 82.380 मीटर, घोघी नदी 87 मीटर खतरे के सापेक्ष 87.30 मीटर पर बह रही है।
शोहरतगढ़ कार्यालय के मुताबिक बाढ़ और कटान से निपटने का लाख दावा करने वाले प्रशासन की कलई मंगलवार को खुल गई। तहसील क्षेत्र में बानगंगा नदी में आई भीषण बाढ़ ने खोल दी।
पहाड़ी नदी में 11 बजे आई भीषण बाढ़ से बानगंगा एफ्लेक्स बाया बाध मसिनाके पास और दाया बाध झरुआ और खम्हरिया के पास कट जाने से कई दर्जन गाँव मैरुण्ड हो गए, बाढ़ से मसिना, बगुलहवा, डोहरिया, इटवा भाट, पतियापुर, झरुआ, खम्हरिया, नीवी, धनौरा मुस्तकम, गोल्हौरा, हलौरा, मोहंकोला, धन्धरा, अर्री, कोटिया बाजार,कॅप्सिहवा, बसहिया, रामगढ़, नौडिहवा, बेलभरिया, कोटिया दीगर, कड़कुइया, कोमर, लेदवा, चंदई, चंदवा, भेलौजी, जोबकुंडा, चरिगवा, लोहटी, पैकी, गनेशपुर, परसा, परड़िया, अडवाडीह, आखेरिया, इमिलिया सुमाली, स¨हवार, बोहली, बंचौरा, ¨सगोरवा, पिपरा, सुरजी, अलगा, जुगडीहवा, गोल्हौरा इहतमाली, उतरौला, ¨झहा आदि गांव मैरुण्ड हो गए है।
बानगंगा के भीषण बाढ़से गनेशपुर के पासबौद्ध परिपथ पर 4 फिट पानी चलने से मार्ग अवरुद्ध हो गया। राहगीर 6 बजे तकशोहरतगढ़ वाया बसहिया से सिसवा चुराहे होते हुए अपने गंतव्य स्थान पर पहुंचे।शाम 6 बजे के बाद यह मार्ग भी बढ़ते जल स्तर के कारण बंद हो गया। सिसवा-लोहटी मार्ग पर पानी बहने से अवरुद्ध रहा। गनेशपुर कोटिया मार्ग, धनौरामुस्तहकम मार्ग, खड़कुइया मार्ग, झरूवा मार्ग, आदि बांगनागा के बाढ़ सेअवरुद्ध हो चुका है।
शोहरतगढ तहसील के बैरियहवा गांव में भी बाढ का पानी घुस गया है। प्रशासन ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रहा है।
–डुमरियागंज क्षेत्र के पिकौरा गांव मे बाढ़ का पानी घुसने से ग्रामीणो का पलायन शुरू
–लोगो ने आरोप लगाया है की अभी तक प्रशासन का कोई जिम्मेदार अधिकारी नहीं पंहुचा है।
— इसी तरह खंता गांव मे प्रशासन द्वारा हाई एलर्ट जारी करने के बाद लोगो को सुरक्षित स्थानो पर जाने के लिए कहा गया है
— वही औरंगाबाद गाव से लोगो ने पलायन कर सुरक्षित स्थानो पर शरण लेना शुरू कर दिया है।
— जबकि फत्तेपुर, धनोहरा, पेड़ारी, मछिया आदि गांवो के किनारे भी बाढ़ का पानी जमा होने की बढ़त से लोगो मे दहशत।
उपजिलाधिकारी विनय कुमार पाठक ने बताया कि आज रात मे राप्ती नदी के जल स्तर मे और अधिक बृद्धि होने की आशंका है।जिसको लेकर प्रभावित हो सकने वाले गावो के लोगो को सुरक्षित स्थानो पर जाने के लिए अपील की गई है।
— प्रशासन ने स्थापित किया कंट्रोल रूम
— बाढ़ व आपदा से निपटने व सूचना हेतु डुमरियागंज तहसील मे कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है।जो 24 घंटे खुला रहेगा।
— बाढ़ से होने वाली किसी भी घटना व आपदा से संबधित सूचना 05541-244439, 9454415945, 9454415953 व 9838711057 पर दे सकते हैं

LIKE US:

fb

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *