महराजगंज

इस गांव में बिजली न होने कारण नही होती है लड़को की शादी, लालटेन की रोशनी में बच्चे पढ़ाई करते है पढ़ाई

महराजगंज: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के सभी गांवों में बिजली पहुंच जाने पर देशवासियों को बधाई दी है और कहा कि उनकी सरकार ने जो वादा किया था, उसे पूरा किया। लेकिन हम आपको आज एक ऐसे गांव ले चलेंगे जहां आजादी के इतने बरस बीत जाने के बाद भी वहाँ बिजली नही पहुचीं। इस गांव में कई लोग ऐसे है जिनकी उम्र पचास साल से ज्यादा की है लेकिन इन लोगों ने आज तक टेलीविज़न का मुंह तक नहीं देखा। ऐसा नही है कि गांव में विकास नही हुआ है विकास तो हुआ है लेकिन बिजली के इंतज़ार में लोग आश लगाए बैठे है कि कब उनके घर रोशनी से जगमगा जाए। वहीँ अधिकारियों का कहना है कि इस गांव का सर्वे करवा लिया गया है और जल्द से जल्द गांव में बिजली आ जायेगी।

महराजगंज जिले के फरेंदा विधानसभा का बारातगाड़ा गांव जिसकी आबादी लगभग 3000 की है इस गांव के लोग आजादी से आज तक बिजली के लिए तरस रहे है । देश मे कई सरकारे आई और चली गई लेकिन इस गांव के लोगो की किस्मत नही बदल सकी और आज भी ये लोग अंधेरे में रहने को मजबूर है। ऐसा नही है कि इस गांव में कोई विकास नही हुआ है गांव में खड़ंजा है, साफ-सफाई है,प्राथमिक विद्यालय है लेकिन बिजली नहीं है । गांव में बिजली के नाम पर कुछ नहीं हुआ है।

ग्रामीणों का कहना है कि वो हर चुनाव में ठगे जाते है नेता चुनाव के समय वोट मांगने आते है और यह कहकर चले जाते हैं कि जीतने के बाद उनके गांव में बिजली पहुंचाया जायेगा लेकिन नेता चुनाव जीतने के बाद फिर गांव की तरफ मुड़कर नहीं देखते।

21 वी शताब्दी में लालटेन की रोशनी में बच्चे पढ़ाई करते हुए दिखाई दे तो आप शायद विश्ववास न करे लेकिन ये हकीकत है और आज मासूम बच्चे लालटेन और दीपक की रोशनी में पड़ने को मजबूर है। इस गांव के कई ऐसे नौजवानों की शादी इसलिए नही हो पा रही है क्योंकि गांव में बिजली नही है और कोई भी अपनी लड़की की शादी इस गांव में नही करना चाहता है। वही जिनकी शादी हो जा रही है और बहू इलेक्ट्रॉनिक समान ले कर आ रही है तो वो डब्बा में बंद रह कर घर की शोभा बढ़ा रही है।

गांव के प्रधान दिनेश यादव कहते हैं कि उन्होंने गांव में बिजली लाने के लिए कई कोशिश की, लेकिन नाकाम रहे। गांव में लोग घर में रोशनी करने के लिए सोलर लाइट के साथ मिट्टी के तेल का प्रयोग करते हैं।पढ़ने वाले बच्चे लालटेन की रौशनी में पढ़ाई करते हैं।

जिलाधिकारी अमर नाथ उपाध्याय को जिले में आए ज्यादा दिन नहीं हुआ है। लेकिन उनका कहना था इस गांव के लिए कुछ कर के जाएंगे । सर्वे करा दिया गया है। आवश्यक कार्यवाही जारी है और जल्द से जल्द गांव में बिजली आ जायेगी।

आपको बता दें कि पिछले डीएम साहब इस गांव को गोद भी ले चुके हैं लेकिन बिजली के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति ही की गई। गांव के नौजवान भी हताश हैं वजह जब गांव में लोग अपनी बेटी का ब्याह करने आते हैं तो इस बात से पीछे हट जाते हैं की बारातगाड़ा में अभी तक बिजली का कनेक्शन नहीं है। आप सोच सकते हैं कि किस दुनिया और किस विकास में हम जी रहे हैं बात मंगल और चंद्रमा पर शोध की हो रही है लेकिन लोग अभी तक बल्ब की रोशनी के लिए और बिजली के कनेक्शन के लिए तरस है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *