महराजगंज

VIDEO: महराजगंज में ग्रामप्रधान की मनमानी, आवास के नाम पर लाभार्थी से मांगी रिश्वत

महराजगंज: जिले के निचलौल विकास खंड अंतर्गत रमपुरवा गांव में ग्रामप्रधान की मनमानी चलती है। यहां आवास के चयनित लाभार्थियों से धनउगाही मामला सामने आया है। जिसमें गांव के एक लाभार्थी को आवास चयन के बाद भी आवास नहीं मिल पाया है।

बता दें कि ग्रामसभा रमपुरवा निवासी दीनानाथ चौधरी का सत्र 2016-17 में बीपीएल सूची के आधार पर चयन हुआ था। जिसका 34वें नम्बर पर क्रमांक आईडी 1768088 पर अंकित भी है। किंतु उसके बाद भी दीनानाथ को आवास नहीं मिल सका है। दो वर्ष पूर्व दीनानाथ की पत्नी ब्रिजमावती का कैंसर के चलते निधन हो गया। पत्नि के इलाज में जीवन भर की जमापूंजी उसकी मौत के साथ चली गई।

बेटे आशीष और बेटी मांडवी के पालन-पोषण के लिए मेहनत मजदूरी करके परिवार का गुजर-बसर कर रहा है। मुफलिसी के चलते रहने को अदद छत भी नसीब नहीं हो पाया। गांव में आवास के चयन के समय उसे लाभार्थी के रूप में चयन किया गया। मगर आवास आज तक नहीं मिल पाया।

दीनानाथ का कहना है कि ग्रामप्रधान अंगद गोंड से जब भी आवास के लिए कहा तो उन्होंने विभागीय खर्च के नाम पर 20 हज़ार रुपये की मांग की। गरीबी के चलते बेटी की शादी के लिए कहीं नहीं जा पा रहा हूँ, ऐसे आवास के लिए 20 हज़ार रुपये कहाँ से लाऊं।

दीनानाथ ने बताया कि गांव में जो लाभार्थी प्रधान को रिश्वत दे रहा है, उसका आवास बन रहा है। मगर प्रधान को पैसा नहीं दिए जाने के चलते पात्रता के बाद भी वह आवास से वंचित रह गया। इस संदर्भ में पूछे जाने पर ग्रामप्रधान अंगद गोंड ने गोल-मटोल जवाब देते हुए कहा कि मेरे द्वारा किसी भी लाभार्थी से आवास के नाम पर पैसे की मांग नहीं की गई है। इस तरह का आरोप निराधार है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *