मऊ

शिवालयों की तैयारियां पूरी, सुरक्षा के किए गए कड़े इंतज़ाम

डी के कुशवाहा, मऊ। क़स्बा स्थित प्राचीन व ऐतिहासिक गौरीशंकर मंदिर और क्षेत्र के नौसेमर स्थित प्राचीन बारह दुवरिया शिव मंदिर पर  सोमवार को महाशिवरात्रि को लेकर सारी तैयारियां पूर्ण कर ली गई है.

उक्त दोनों मंदिर का आध्यात्मिक रूप से बहुत ही महत्व है. मंदिर पर जल चढ़ाने के लिए दूर-दूर से आये भक्तो की भीड़ लगती है. कहते है कि आज भी लोग उक्त दोनों मन्दिरो पर झूठी कसमे खाने से परहेज करते है.

लोगो का यह भी मानना है कि सच्चे मन से की गयी प्रार्थना हमेशा फलदायी होती है. वही महाशिवरात्रि को लेकर दोनों मन्दिरो पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गए है. इसके लिए 6 एसआई के अलावा 3 दर्जन महिला व पुरुष पुलिसकर्मी लगाए गये है.

कोपागंज स्थित प्राचीन गौरीशंकर मंदिर के बारे में ऐसी मान्यता है कि यहां पर मंदिर के गर्भ गृह में स्थित शिवलिंग की स्थापना किसी ने नहीं कराई है अपितु यह स्वयं प्रकट हुआ है.

कहा जाता है कि लगभग 700 वर्ष पूर्व पिथौरागढ़ नरेश इधर से अपनी सेना के साथ गुजर हरे थे. कुछ देर विश्राम करने के लिए इसी गौरीशंकर मंदिर के प्रांगण में रुके. उस समय यह मंदिर जंगलों और झाड़ से ढका हुआ था.

उसी समय राजा को स्वप्न में मंदिर के अंदर शिवलिंग ढके होने की जानकारी हुई. राजा ने अपने राज्य पिथौरागढ़ से धन माँगाकर इस मन्दिर की साफ-सफाई करायी. सफाई के दौरान गर्भगृह में नीचे दबे शिवलिंग का पता चला तो राजा ने मंदिर का जीर्णोद्धार कराया.

उक्त मन्दिर पर महाशिवरात्रि के पर्व को लेकर कोपागंज शिव परिवार कावरिया संघ के अध्यक्ष राकेश यादव, गुड्डू व दिनेश सोनकर, कार्तिक, मोदनवाल आदि के नेतृत्व में शनिवार की सुबह से ही मन्दिर की साफ-सफाई व साज-सज्जा, रँगाई-पोताई का काम चल रहा था, जिससे मन्दिर पर जल व पूजा-पाठ करने वाले महिला पुरुष भक्तो को किसी भी तरह कि कोई दिक्कते न हो.

मन्दिर पर सुरक्षा के वावत एसआई 6 , पुलिस पुरुष 40 ,महिला सिपाही 5, होमगार्ड 25  के तैनात किये गए है. इनके अलावा सुरक्षा के बावत कोतवाल अखिलेश कुमार ने कहा कि और भी फोर्स की माँग की गयी है और जो भी फोर्स उपलब्ध रहेगी सुरक्षा में ज़रूर लगायी जायेगी.

 

 

 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *