मऊ

आधा अधूरा बनाकर छोड़ा गोशाला, किसान परेशान

डी के कुशवाहा, मऊ। जनपद के कोपागंज ब्लाक के  ग्राम पंचायत लेरोबेरुआर में बनायी जा रही गोशाला, खाते में धन नही आने के कारण आधा अधूरा बनाकर छोड़ दिया गया है, जिसके चलते सरकार की मंशा फलीभूत होती नही दीख पड़ रही है और इसका खामियाजा गांवो के किसानों को उठाना पड़ रहा है.

प्रदेश सरकार के निर्देश पर गांवो व खेतो में घूमने वाले छुट्टा पशुओं के लिए गोशाला ग्राम पंचायतों के माध्यम से 4 लाख रुपये में बनाया जाना है.

किसानों द्वारा अपने फसलों को छुट्टा घूम रहे जानवरो द्वारा नुकसान कर दिये जाने का मुद्दा बार बार उठाया जाता रहा है. इन्ही मुद्दों को संज्ञान में लेकर प्रदेश सरकार द्वारा ग्राम पंचायतों के माध्यम से  गांवो में गोशाला बनाकर छुट्टा घूम रहे पशुओं को बांधने का फरमान जारी किया था.

जो गोशाला 4 लाख रुपये में बननी है. जिसमे 2 लाख रुपये में हाल व 2 लाख रुपये में उसकी बाउंड्री,  नाद तथा भूसा रखने के लिए कमरे पर खर्च किया जाना है. उक्त गोशाला कोपागंज ब्लाक के पांच गांवो एकौना , रईसा पिपरोता,  चिस्तीपुर, सोडसर व लेरोबेरुआर में बनने हैं ,

लेकिन ग्राम प्रधानों ने बताया कि उक्त गोशाला बनाने के मद में अभी तक एक रुपये भी खातों में नही आया है, अपने पास से जितना बन सका उतना बनाया गया है. खाते में गोशाला की एक भी किश्त अब तक न आने से लेरोबेरुआर में बनाया जा रहा गोशाला आधा अधूरा बनाकर छोड़ दिया गया है.

उधर गांवो में गोशाला न बनने से घूम रहे छुट्टा जानवर उनकी फसलों को रातो दिन नुकसान कर रहे हैं और किसान परेशान हैं. इस लापरवाही के कारण अब लगने लगा है कि छुट्टा जानवरो को बांध कर रखने वाली प्रदेश सरकार की योजाना बीच रास्ते मे ही दम तोड़ देगी.

नही आया धन तो मैं क्या करूँ – प्रधान

मऊ. कोपागंज ब्लाक के लेरोबेरुआर गाँव में आधा अधूरा बनाकर छोड़े गये गोशाला के बाबत पूछे जाने पर ग्राम प्रधान मुरलीधर यादव ने कहा कि अभी तक उक्त गोशाला निर्माण के निमित्त सिर्फ आदेश आया लेकिन खाते में रुपये नही आये. अभी तक का निर्माण अपने व्यक्तिगत खाते से निकाले गए धन से कराया गया है. रुपये आते ही गोशाला का कार्य पूर्ण हो जाएगा.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *