दवा व्यवसायी हत्याकांड का खुलासा,दस लाख की उधारी में मारी गई थी गोली

गोरखपुर: गत गुरुवार की रात को बेतियाहाता में दवा व्यवसायी नीरज रामरायका की गोली मारकर हत्या किए जाने के मामले का पटाक्षेप हो गया है। हत्या की जड़ में उधारी के 9 लाख 80 हजार रुपये का लेन देन बताया जा रहा है।पुलिस ने हत्याभियुक्त को मय असलहा गिरफ्तार किया है।

आज उक्त घटना का खुलासा करते हुए एसएसपी आर पी पाण्डेय ने बताया कि गत 15 जून को देर शाम जब दवा व्यवसायी अपनी स्कूटी से घर जा रहे थे ,तो हत्यारोपी रोहित वर्मा पुत्र शशिभूषण वर्मा निवासी आवास विकास कॉलोनी ने पिस्टल से गोली मार दिया और फरार हो गया।पुलिस इस मामले को चुनौती के तौर पर ली और मुखबिर की सूचना पर आज मोहद्दीपुर के बिग बाजार के पास दबिश देकर गिरफ्तार कर लिया।

हत्याभियुक्त ने मीडिया से बताया कि मृतक नीरज रामरायका ने उसकी माँ से दो वर्ष पूर्व मकान खरीदने के नाम पर 9 लाख 80 हजार रुपया लिया था।किंतु न तो उसने मकान रजिस्ट्री किया और न ही मेरा पैसा वापस कर रहा था।बार बार मांगने पर हमेशा टाल मटोल करता रहता था।।

मैंने पैसे वापसी के लिए हर तरह से प्रयास कर लिया,लेकिन उसने पैसा नही दिया, साथ ही धमकी भी देने लगा कि जो करना है कर लो,पैसा नही दूंगा। हालांकि इस सम्बंध में मेरी माँ द्वारा कैंट थाना में नीरज के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा भी लिखवाया गया था। मुकदमा लिखने के बाद वह पैसा देने को तैयार नही था।

जबकि मेरे पिताजी को कैंसर है,जिनके इलाज में काफी पैसा लग रहा है और मैं इलाज के चलते कई जगहों से कर्ज ले लिया था।अब उसकी हत्या के अलावा और कोई रास्ता नही बचा था। यही वजह थी कि 15 जून को 7-8 बजे मैं उसके घर के पास चला गया और इंतजार करने लगा। रात10 बजे जब नीरज स्कूटी से आता दिख तो सामने से पिस्टल से उसको गोली मारकर भाग गया।

गौरतलब है कि एसएसपी ने उक्त खुलासा करने वाली टीम को प्रोत्साहन हेतु 5 हजार रुपये नकद से पुरस्कृत किया है।