स्टूडियो मालिक हत्याकांड का खुलासा, आलम ने मारी थी गोली

देवरिया: वीनस फोटो स्टूडियो मालिक की हत्या करने वाले आलम को काफी मशक्कत के बाद पुलिस ने शनिवार की देर रात दबोच लिया। जबकि उसका साथी गजनी उर्फ शमीम फरार बताया जाता है। 8 जुलाई को जिला मुख्यालय पर एलआईसी एजेंट और स्टूडिया मालिक को गोली मार कर आलम ने सनसनी मचा दी थी।

स्टूडियो मालिक हत्याकांड का खुलासा करते हुए एसपी राजीव मल्होत्रा ने बताया कि देवरिया के अबूबकर मुहल्ला के रहने वाले आलम ने 8 जुलाई की देर शाम एलआईसी एजेंट अरविन्द विश्वकर्मा और वीनस स्टूडियों के मालिक भाष्कर जायसवाल को गोली मार दिया था। इसमें भाष्कर की मौत हो गई थी। गोली मारने के बाद शमीम और आलम रामपुर कारखाना के शाहपुर बेलवा गांव निवासी सोहराब अंसारी उर्फ सोहन के पास पहुंचे और घटना में प्रयुक्त मोटर साइकिल सौंप दिए। सोहराब से ही दोनों 46 सौ रुपया लेकर फरार हो गए।

पुलिस की टीम ने सोहराब को उसके गांव से हिरासत में ले लिया। गजनी अभी फरार चल रहा है। आलम के निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त पिस्टल बरामद कर लिया गया है। बताते हैं कि आलम की भाष्कर के बेटे बालेश्वर, एलआईसी एजेंट अरविंद विश्वकर्मा और दो अन्य लोगों से रंजिश थी। आलम 8 जुलाई को चार लोगों की जान लेना चाहता था। एलआईसी एजेंट अरविंद विश्वकर्मा को गोली मारने के बाद वह वीनस स्टूडियो पर पहुंचा।

वहां बालेश्वर के नहीं मिलने पर उनके पिता भाष्कर को गोली मार दी। इसके बाद वह अपने साथी के साथ दो अन्य लोगों को भी ठिकाने लगाने पहुंचा लेकिन वे नहीं मिले। इसके बाद वह फरार हो गया था। उसने पुलिस से बचने के लिए महराजगंज के फरेंदा में शरण ले रखी थी। जहां से पुलिस ने उसे ट्रेस कर लिया। घटना के समय अली नगर निवासी गजनी उर्फ शमीम बाइक चला रहा था। आलम पीछे बैठा था। आलम ने ही दोनों कारोबारियों को गोली मारी थी।

एसपी ने घटना का खुलासा करने वाली टीम को पांच हजार रुपए का इनाम दिया है।