सरकारी प्रयासों को झटका, झाड़ियों में फेंकी मिली नवजात बच्ची

गोरखपुर: सरकार बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के लिए लोगो को जागरूक कर रही है। बेटियो के आगे बढ़ने के लिए तमाम योजनाएं ला रही है। बावजूद इसके शनिवार चौरी चौरा क्षेत्र में एक नवजात को झाड़ियों में फेंके जाने की घटना ने लोगों को मर्माहत कर दिया है।

चौरी चौरा क्षेत्र के बसडीला गांव के पुल के पास झाड़ियों में सुबह किसी प्रसव पीड़िता ने अपने नवजात को छोड़ दिया।जिसकी आवाज सुनकर लोगों ने पुलिस को सूचना दिया।बच्ची को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज हेतु भर्ती कराया गया है। पुलिस के मुताबिक बच्चे को लेने वाले इच्छुकों की भीड़ लगी है।

जानकारी के अनुसार चौरीचौरा क्षेत्र के बसडीला गांव के बाहर पुलिया के पास झाड़ियों में लोगों ने शनिवार की सुबह 4 बजे एक बच्चे के रोने की आवाज सुनी। कुछ महिला पुरुष पहुचे तो देखा कि एक बच्ची कपडे मे लिपटी हुई पड़ी है। उसे झाड़ी से बाहर निकाला गया। बच्ची को देखने पर लोगो को लगा कि रात में प्रसव के बाद बच्ची को फेंका गया।

किसी झंझट में न फंसने के भय से लोगो ने तत्काल डायल 100 को सूचना दी। सूचना पर पहुंची पीआरवी 332 की गाड़ी ने बच्ची के इलाज के लिए सीएचसी पंहुचा दिया। बच्ची के मिलने की सूचना पर चौरी चौरा और आस पास के तमाम लोग सीएचसी पर पहुंच गए। बच्ची का वहां अस्पताल में देखरेख किया जा रहा था, बाद में बच्ची को अग्रिम इलाज के लिए जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया।उसके साथ ही उसे गोद लेने वाले बच्चे के साथ ही गोरखपुर सीएमओ ऑफिस रवाना हो गए।

चौरी चौरा पुलिस के मुताबिक कोई बच्ची को अपनाना चाहेगा तो उसे लिखित कार्यवाई के बाद ले सकता है।

इस सम्बंध में सीएचसी चौरी चौरा के चिकित्सा अधीक्षक डॉ सर्वजीत प्रसाद ने बच्चे को उपचार की आवश्यकता बताया। उन्होंने गोद लेने वालों को सीएमओ ऑफिस जाकर बात करने की सलाह दी।