कस्तूरबा गांधी विद्यालय से छात्रा गायब, परिजनो ने विद्यालय प्रबंधन पर आरोप लगाया

सिद्धार्थनगर: जिले में कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय में पढ़ने वाली एक नाबालिग छात्रा के गायब होने का मामला प्रकाश में आया है। बालिका की उम्र 14 साल है और वह कक्षा आठ की छात्रा है। उसके परिजनों गायब होने के लेकर स्कूल प्रबंधन पर आरोप लगाया है। उनका दावा है कि छात्रा को भगाने में स्कूल प्रबंधन का हाथ है।

मामला जोगिया थाना क्षेत्र के धेंसा स्थित कस्तूरबा गांधी विद्यालय का है। सवाल उठाया गया है कि आखिरकार बीएसए डीसी और वार्डन की देखरेख के बावजूद छात्रा कैसे गायब हुई। छात्रा की खोजबीन शुरू कर दी गयी है। कस्तूरबा विद्यालय और शिक्षा विभाग पर मामले की लीपापोती करने में जुटने का आरोप लगाया गया है।

बताया गया है कि सदर थानाक्षेत्र के एक गांव की छात्रा ने कस्तूरबा आवासीय विद्यालय में प्रवेश ले रखा है। पांच जुलाई को विद्यालय परिसर पहुंची और छह जुलाई की शाम से गायब हो गई। कस्तूरबा की वार्डेन गीता देवी का कहना है कि छात्रा जिस दिन विद्यालय आई थी उसी दिन उसने अध्यापिका अंतिमा का मोबाइल चुरा लिया था।

उसी मोबाइल से उसने किसी को फोन भी किया था। छह जुलाई को तलाशी के दौरान छात्रा के पास से मोबाइल भी बरामद हो गई थी। उसी दिन शाम को वह विद्यालय से गायब हो गई। वार्डेन का कहना है कि उसी दिन उन्होंने छात्रा के अभिभावक को सूचना दे दी थी पर वह मिली नहीं।

सात जुलाई को जोगिया कोतवाली पर मौखिक सूचना दे दी थी। कई दिन बीत जाने के बाद भी जब छात्रा का पता नहीं चला तो उन्होंने 11 जुलाई को पुलिस को लिखित तहरीर के माध्यम से छात्रा के गायब होने की सूचना दी। छात्रा कहां है उसका कहीं पता नहीं चल रहा। परिजनो उसकी तलाश कर रहे हैं।

जोगिया कोतवाली प्रभारी विनोद सिंह का कहना है कि तहरीर मिली है। वह छात्रा का पता लगा रहे हैं। छात्रा ने मोबाइल से किससे बात किया था नम्बर को सर्विलांस पर लगाया जा रहा है। जल्द ही खुलासा हो जाएगा।