मेडिकल कॉलेज घटना पर पूरा देश स्तब्ध, ट्विटर पर राजनीतिज्ञ, आम लोगों ने योगी सरकार को लताड़ा

गोरखपुर: महानगर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी के कारण 21 मासूमों सहित 30 लोगों की मौत ने पुरे देश को झकझोर कर रख दिया है। बीते बुधवार की रात से लेकर अब तक 30 से ज्यादा लोग काल के गाल में समा गए हैं। स्थानीय प्रशासन ने शुरू में तो इतनी मौतों के होने से इंकार करता रहा लेकिन बाद में जिलाधिकारी ने माना की 9-10 की रात से अब तक 30 मौतें हो चुकी है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद में ऐसी घटना का होना और वो भी तब जब सीएम खुद पिछले दो दिनों तक गोरखपुर में रहे, शर्मनाक है। घटना के बाद मेडिकल कॉलेज पंहुचे बाँसगाँव से भाजपा सांसद कमलेश पासवान ने दुःख जताते हुए कहा है की अब तक 30 बच्चों की मौत हो चुकी है। उन्होंने कहा की इन मौतों का कारण ऑक्सीजन की कमी है।

घटना से न केवल गोरखपुर बल्कि समूचे देश में दुःख और गुस्सा देखा गया। शाम से ही गोरखपुर ट्विटर पर दूसरे या तीसरे पर ट्रेंड कर रहा है। राजनीतिज्ञों के साथ-साथ आमलोगों ने भी घटना पर दुःख जताते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इस्तीफे के मांग कर डाली।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने योगी सरकार को आड़े हाथों लेते हुए मृतकों के आश्रितों के लिए 20-20 लाख मुआवजा की मांग की है। उन्होंने आरोप लगाया की मृतकों के परिजनों को लाश देकर भगा दिया गया, मृतक का पोस्टमार्टम तक नहीं हुआ है। उन्होंने कहा की मेडिकल कॉलेज से भर्ती कार्ड भी गायब कर दिया गया है। अत्यन्त दुखद।

वहीँ उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर ने ट्वीट कर लिखा है की … 30 मरीजों की मौत ऑक्सीजन की सप्लाई ठप्प हो जाने से हुई है । मैं स्तब्ध हूं । अवाक हूं। उन्होंने भाजपा सरकार कटाक्ष करते हुए लिखा है की ”आप गाय माता से लेकर मदरसे के बहस में फसते रहे, जिंदगी से जिन्हे लम्हे काम मिले, वे इलाज बिन मरते रहे”.

कांग्रेस के ही एक अन्य नेता और देवरिया जिले के रुद्रपुर से विधायक रह चुके अखिलेश प्रताप सिंह ने ट्वीट कर कहा है की,” CMकी स्वा०अधि०के साथ बैठक, मेडि०कालेज केJE/JESवार्ड मे, गम्भीर बीमार बच्चों के लिए CCU का उद्घाटन, निरीक्षण परिणाम दूसरे दिन आक्सिजन ख़त्म, 30मौते”.