संतकबीर नगर

कांग्रेस पार्टी कार्यालय पर कार्यकर्ताओं ने किया जमकर हंगामा

शैलेन्द्र मणि त्रिपाठी, संतकबीरनगर। लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों से मिलने  आये पर्यवेक्षक व आल इंडिया कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय सचिव सचिन नायक को संतकबीरनगर कांग्रेस पार्टी कार्यालय पर जमकर हंगामा देखना पड़ा.

इस दौरान कार्यकर्ताओ ने पहले जमकर हंगामा किया फिर मारपीट की नौबत भी आ गयी. कार्यकर्ताओ से बारी-बारी मिलने के लिए पर्यवेक्षक को जमकर जूझना पड़ा. घण्टो हंगामा चलता रहा.

आपको बता दे कि संतकबीरनगर जिले में कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं से मिलने और स्थिति जानने पहुँचे पर्यवेक्षक सचिन नायक का यूथ कांग्रेस के प्रदेश महासचिव प्रवीण पाण्डेय और लोकसभा के पूर्व प्रत्याशी रोहित पांडेय और उनके समर्थकों ने शानदार  तरीके से स्वागत किया.

स्वागत के उपरांत जैसे ही पर्यवेक्षक कांग्रेस पार्टी कार्यालय पहुँचे तभी कार्यकर्ताओ ने  सभी लोगो से अकेले अकेले मिलने और जिलाध्यक्ष परवेज खान को बाहर करने की मांग की और बात बनती न दीख हंगामे पर उतर आए और जमकर नारेबाजी किया. नारेबाजी और हंगामे का दौर काफी देर तक चलता रहा.

भारी शोर-शराबा और हंगामा देख अपनी सीट से खड़े होकर पर्यवेक्षक सचिन नायक ने कार्यकर्ताओ को हिदायत भी दी लेकिन उसका कोई असर कार्यकर्ताओ पर नही पड़ा और हंगामा बढ़ता ही चला गया.

इस दौरान बुजुर्ग काँग्रेसी नेता ने पार्टी के पदाधिकारियों की शिकायत की तो पार्टी के पदाधिकारी बुजुर्ग नेता पर भड़क गए जिससे नाराज कार्यकर्ताओ ने पार्टी के पदाधिकारी को जबरन धक्का देकर बाहर निकाला  इतना ही नही इसके बाद भी कार्यकर्ता जिलाध्यक्ष के कार्यप्रणाली से नाराज दिखे और जमकर बवाल काटा .

मजबूर होकर पर्यवेक्षक को मीटिंग हाल से निकल कर बाहर आना पड़ा और पर्यवेक्षक को बाहर खड़े  रहकर भीड़ को समझना पड़ा तब जाकर बात बनी. लेकिन कार्यक्रम के अंत तक हंगामा चलता रहा और मजबूर होकर पुलिस को बुलाना पड़ा. तब कही मामला शांत हुआ.

जिलाध्यक्ष प्रकरण पर सबकी सुनुंगा – सचिन नायक

पर्यवेक्षक सचिन नायक ने बताया कि वे लोकसभा चुनाव के मद्देनजर कायकर्ताओं से मिलकर पार्टी की स्थिति जानने के लिए आये है. कार्यकर्ताओ में काफी उत्साह है पर कार्यकर्ता अनुशासन में नही है. जिसे सही करने की जरूरत है. हंगामे की बात पर उन्होने कहा कि जो भी कमी है उसे सुनकर दूर किया जाएगा, रही बात जिलाध्यक्ष को हटाने की तो सबकी सुनने के बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचुगा.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *