सिद्धार्थनगर: हल्की बारिश में नगर पालिका के कई मोहल्ले, सड़के जलमग्न

सिद्धार्थनगर: शहर की जलभराव समस्या से निजात दिलाने के लिए पालिका अभी तक ठोस कदम नहीं उठा पाई है। जल निकासी की बदइंतजामी शहर में परेशानी का सबब बनी हुई है। जलभराव की समस्या पर नजर दौड़ाएं तो आम और खास की खाईं पट गई है।

नगर पालिका अध्यक्ष के आवास जैसे इलाके हल्की बारिश से जलमग्न हो गए हैं। जिससे लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। कहीं पर नाले नहीं तो जहां पर नाले हैं वहां पर नाला सफाई के मुकम्मल इंतजाम करने में पालिका पूरी तरह से फेल नजर आ रही है। एक करोड़ की नाला सफाई भी शहरियों को राहत नहीं दिला पा रही है।

शहर के सिद्धार्थ शिक्षा निकेतन इंटर कालेज के पास बनी पुलिया सफाई के बाद जिस तरह से सिल्ट से पटी पड़ी है उससे गंदे पानी का बह पाना मुश्किल हो रहा है। कमोवेश यही हाल पूरे नगर पालिका का है। सिल्ट भरी होने से पीछे का पानी नहीं बह पा रहा है। रामनगर के नाले की विधिवत सफाई न कराने का वहां के निवासी विरोध दर्ज करा रहे हैं।

सिविल लाइन, इंदिरा नगर, शिवपुरी कॉलोनी, आजाद नगर की नालियां उफना रही हैं। खास बात यह कि नालों की सफाई में पालिका ने लाखों रुपए व्यय कर दिए हैं। अधिशासी अधिकारी नगर पालिका राजीव रंजन सिंह ने कहाकि शहर में जलभराव न हो इसके लिए प्रभावी कदम उठाते हुए नाला सफाई कराई गई है। जहां पर दिक्कत आ रही है वहां पर टीम भेजकर सिल्ट और अवरोध हटाए जा रहे हैं।

जबकि हकीकत यह है कि सिर्फ कागजो मे नपा का सारा काम चल चल रहा है धरातल पर शून्य है।बरसात भर सफाई विभाग को सतर्क रहने के निर्देश दिए गए हैं। लेकिन फिर भी हालात जस के तस बने हुए है जलभराव से निजात दिलाने के लिए शहर में नाला निर्माण भी कराए जा रहे हैं। जिसका उद्देश्य जल नही धन निकासी है।