तमकुहीराज विधायक ने शुरू किया जल सत्याग्रह आंदोलन

कुशीनगर (मोहन राव): बंधो को बचाने तथा मानसून शुरू होने से पूर्व उनकी मरम्मत कराने की अपनी मांगों को लेकर सत्याग्रह के चौथे दिन तमकुहीराज के विधायक अजय कुमार उर्फ लल्लू के नेतृत्व में दर्जनों लोगों ने जल सत्याग्रह शुरू किया।

यहां बताते चलें कि जनपद की नारायणी नदी पर तटबंध पर पिपरा घाट, अहिरौली दान विरवट कोंहवलिया, बाघाचौर, जंगली पट्टी बंओं पर लगातार कटान हो रहे हैं।

मानसून आने से पूर्व इन बांधों की मरम्मत नहीं होगी तो दर्जनों गांव जलमग्न हो जाएंगे। इसी समस्या को लेकर वहां के क्षेत्रीय विधायक अजय कुमार लल्लू लगातार सरकार से अपनी मांग कर रहे है। मांग पूरा नही होने की दशा में उन्होंने ठान लिया कि जब तक समस्या का समाधान नहीं हो जाता है वो सत्याग्रह करेंगे। इसी कड़ी में रविवार को उन्होंने जल सत्याग्रह शुरू किया।

नारायाणी नदी जो नदी के तटवासियो के लिए भष्मासुर बनकर हर गांव को अपने अन्दर समेट लेती है और हर बार प्रशासन का दावा तब फेल होता दिखता है जब ग्रामीण बेघर होकर ईधर-उधर भटकने को मजुबर हो जाते है। लगभग 50 से 60 गांवो के लोगो को बाढ़ का कहर झेलना पड़ता है और एपी तटबंध के नाम से चर्चित बांध हमेशा नदी के धारा के आगे ध्वस्त होता जाता है।

जिसको लेकर विरवट कोन्हलिया गांव मे पिछले चार दिनो से चल रहा जन आन्दोलन मे सत्याग्रहियो ने आज चौथे दिन विधायक अजय कुमार लल्लू के नेतृत्व मे नग्न अवस्था मे छाती भर पानी मे खड़े होकर विरोध जताया और शासन व प्रशासन पर उदासीनता का गम्भीर आरोप लगाया।

विधायक अजय कुमार लल्लू का कहना है कि जब तक बचाव कार्य शुरू नही कर दिया जाता हम एक कमद भी हटने वाले नही। पिछले तीन दिनो से लगातार सत्याग्रहियो और प्रशासन के बीच शनिवार को अधिशाशी अभियन्ता के साथ वार्ता विफल हो गई और आन्दोलनकारी अपनी मांग पर अड़े रहे जबकि चौथे दिन रविवार को नदी के जल मे खड़े होकर नग्न अवस्था मे प्रदर्शन किये।