टॉप न्यूज़

इस वैलेंटाइन गोरखपुर में मनेगा 'माता-पिता दिवस'!

Mata-Pita-divas-to-be-celebहरिकेश सिंह (वरिष्ठ संवाददाता)
गोरखपुर: इस वैलेंटाइन अगर आप को शहर के कुछ स्कूलों के छात्र-छात्राएं ‘माता-पिता दिवस’ मनाते दिख जाएं तो चौकिएगा मत। एक नहीं पहल के अंतर्गत गोरखपुर के दर्जनों स्कुलो में छात्र- छात्राओं को आगामी 14 फरवरी के दिन वेलेंटाइन डे के बजाय ‘माता-पिता दिवस’ मनाने की प्रेरणा दी गई।
आम तौर पर हम जानते है की वेलेंटाइन डे के दिन युवक-युवतियां एक दूसरे को गुलाब का फुल और गिफ्ट देकर अपने दोस्ती और प्यार का इजहार करतें हैं। हमसे यह बात भी छुपी नहीं है की जहाँ नयी पीढ़ी इस दिन को मनाने की कई तरह से तैयारियां करती है तो वही कुछ संगठन ऐसे भी है जो वैलेंटाइन डे को मनाने के पूरी तरफ खिलाफ है।
वैलेंटाइन डे को एक नए और अनूठे तरीके से मनाने की पहल करते हुए शहर में सक्रिय एक एनजीओ ने एक अभियान के तहत स्कुलो में जाकर नई पीढ़ी को इसके बारे में जागरूक कर रही है |
एनजीओ ने स्कूल के बच्चों से कहा की वो 14 फरवरी को अपने घरो में रह कर माँ बाप के प्रति अपने कर्तव्यो का निर्वाह करे।
एनजीओ के संचालक अशोक कुमार का कहना था की इस पहल के तहत स्कुलो में जहा एक तरफ छात्राओं के अन्दर अपने माँ-बाप और अब्बू-अम्मी के प्रति आदर और प्रेम की अलख जगाई गई वही दूसरी तरफ नई पीढी को गलत रास्तो से भटकने से बचाने की कवायद भी की गई।
उनका कहना था की इस अभियान को लेकर छात्राओं में खासा उत्साह था और उन्होंने आज से संकल्प लिया कि वो 14 फरवरी को वैलेंटाइन डे के बजाय मात-पिता दिवस मनायेगे, और साथ ही अपने बाकी साथियों से भी कहेंगे, और उन्हें प्रेरित भी करेंगे |
इस बारे में पीजीकालेज इस्लामिया के प्रिंसिपल डॉ रिजवान का कहना था की निश्चित रूप से इस पहल से जहा माँ-बाप के प्रति उनके बेटो के दिल में आदर की लौ जलेगी, वही दूसरी तरफ जिन माता पिता को बुढापे में वृद्धा श्रम जाना पड़ता था, इस पहले से उन्हें भी निजात मिलेगा | शायद तभी तो ये कहा जाता है, कि माँ बाप है, जो अपने औलाद को धुप और छाँव से बचा कर उन्हें हर तकलीफों से दूर रखती है | और अपनी दुआओं के छाँव में रखती है |

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *