टॉप न्यूज़

नवनियुक्त लोकायुक्त मिश्रा बोले, नियुक्ति पत्र मिलने तक कुछ नहीं बोलूंगा

Justice-Sanjay-Mishraइलाहाबाद: उत्तर प्रदेश के नवनियुक्त लोकायुक्त सेवानिवृत्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति संजय मिश्रा ने यहां गुरुवार को कहा कि जब तक उन्हें नियुक्ति (संबंधी) आदेश नहीं मिल जाता, वह इस संबंध में कोई बात नहीं करेंगे।
मिश्रा को लोकायुक्त नियुक्त किए जाने की खबर सामने आने के बाद से उनके पन्नालाल रोड स्थित आवास के बाहर मीडिया का जमावड़ा लगा हुआ है। उनके आवास पर मित्रों, शुभचिंतकों की भीड़ भी जमा है। पुलिस ने आवास पर सुरक्षाकर्मी तैनात कर दिए हैं।
संजय मिश्रा यूपी के चौथे महाधिवक्ता और प्रख्यात न्यायविद् पंडित कन्हैयालाल मिश्र के पौत्र हैं। पंडित कन्हैयालाल मिश्रा 1952 से 1969 तक लगातार प्रदेश के महाधिवक्ता रहे थे। वह 1961 से 1969 तक बार काउंसिल के अध्यक्ष भी रहे थे।
19 नवंबर 1952 को जन्मे संजय मिश्रा स्नातक (ग्रेजुएट) हैं। 1977 में उन्होंने उच्च न्यायालय में वकालत शुरू की थी। वह 24 सितंबर 2004 को इलाहाबाद उच्च न्यायालय में अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त हुए। 18 अगस्त 2005 को उन्होंने स्थायी न्यायाधीश के रूप में शपथ ली। वह 18 नवंबर 2014 को इलाहाबाद उच्च न्यायालय के न्यायाधीश पद से सेवानिवृत्त हुए।
सर्वोच्च न्यायालय ने गुरुवार को संजय मिश्रा को उत्तर प्रदेश का नया लोकायुक्त नियुक्त किया। शीर्ष अदालत ने मिश्रा को नया लोकायुक्त बनाने के साथ ही लोकायुक्त के लिए पूर्व में दिए गए न्यायाधीश वीरेंद्र सिंह का नाम वापस ले लिया।
शीर्ष अदालत में एक याचिका दाखिल कर उत्तर प्रदेश सरकार पर लोकायुक्त के लिए सेवानिवृत्त न्यायाधीश वीरेंद्र सिंह का नाम गलत तरीके से अदालत के सामने रखने का आरोप लगाया गया था। याचिका में आरोप लगाया गया था कि इस मामले में अदालत को गुमराह किया गया है। इसके बाद सर्वोच्च अदालत ने यह फैसला सुनाया है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *