टॉप न्यूज़

दो लाख की खरीद पर पैनकार्ड की अनिवार्यता के विरोध में सर्राफा व्यवसायी, कैंडल मार्च कर जताया विरोध

sarafa-gkpगोरखपुर: केंद्रीय शासन द्वारा दो लाख से ज्यादा खरीदारी किये जाने पर पैन कार्ड की अनिवार्यता लागू किये जाने को लेकर सर्राफा व्यवसायियों ने इसे काले कानून की संज्ञा दी है।सर्राफा संघ ने इस कानून के विरोध में बीती रात कैंडिल मार्च कर विरोध जताया।

टाउन हाल स्थित गांधी प्रतिमा पर कैंडिल मार्च को समाप्त कर सभा को संबोधित करते हुए सर्राफा व्यापारियो ने कहा कि भारत सरकार द्वारा स्वर्ण व्यवसाय के हितों पर चोट करने वाला, काला कानून पास किया  गया है कि दो लाख से ऊपर की सोने के जेवरात की खरीदी  पर ग्राहक को पेन कार्ड नम्बर देना अनिवार्य होगा अथार्त् ग्राहक को इनकम टैक्स के दायरे में ही 2 लाख के जेवरात खरीदने होंगे।भारत के अधिकतर लोगो के पास -पेन -नम्बर नही हैं चूँकि देश की 75%से ज्यादा जनसँख्या गांव में निवास करती है और खेती पर आसरित होती है|

सोना एक महँगी चीज है, दो लाख की लिमिट बहुत ही कम है पहले यह 5 लाख की लिमिट थी, व्यपारीयो की मांग थी कि  इसे 15  लाख तक की जाय, पर केन्द्र सरकार ने इस को 2 लाख कर दिया है जो सीधा- सीधा व्यपारिक हितो पर चोट है. उधर सरकार ने प्रापर्टी पर लिमिट 5 लाख से बढा कर 10 लाख कर दी है, लोग सोने की बजाए अपने बच्चो को प्रापर्टी दे देंगें, क्योकि वहाँ उनको पेन नम्बर नही देना पडेगा, इससे सोने के व्यवसाय की बिक्री पर असर पडेगा, व इससे ज्वैलर्स से लेकर स्वर्णकार तक प्रभावित होंगें मेरी सभी दुकानदारों से प्रर्थाना है की अपने लोकल एरिया के स्तर से स्वर्णकार समाज के व्यवसाय वर्ग के सभी भाई बंधु को इसकी जानकारी उपलब्ध करावें ।

साथ ही 18 जनवरी को राष्ट्रीय स्तर पर समाज को अपनी आवाज बुलंद करने का में आहवान करता हूँ। आपका एक सहयोग समाज के व्यपार वर्ग को बचा सकता है अथार्त् सरकार को इसे को – 15 लाख  तक पैन काड की अनिवार्यता बढ़ाने पर  मजबूर कर दे। जो अभी 2 लाख पर अनिवार्य है। 2 लाख में 70 gm सोना ही होता है इस की जानकारी सरकार को होनी चाहीये ।

अगर  वयापारी और  जनता पर यह  काला  कानून जोर जबर्दस्ती  से थोपी गई तो इस केंद्र सरकार का  भी जोर दार बिरोध किया जायेगा । इस  काला कानून से  भारत की 25 करोड जनता  प्रभावित  होगी ।

 इस काले क़ानून के बिरोध में पुरे भारत के स्वर्णकार एक है केंद्र सरकार किसी मुगालते में न रहे ।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *