टॉप न्यूज़

पूर्व विधायक ओम प्रकाश पासवान के दूसरे बेटे ने भी राजनीति में की धमाकेदार इंट्री

Vimlesh-Paswanगोरखपुर: पूर्व विधायक ओम प्रकाश पासवान के छोटे बेटे और बीजेपी के संसद कमलेश पासवान के भाई विमलेश पासवान भी पॉलिटिक्स में कूद पड़े हैं।
बीआरडी मेडिकल कॉलेज से लेक्चररशिप की नौकरी छोड़ डॉ विमलेश पासवान ने अभी संपन्न हुए ब्लॉक प्रमुख चुनाव में जिले के चरगांवा ब्लाक से प्रमुख की सीट जीत ली है।
Vimlesh-Paswan-1गौरतलब है की विमलेश के पिता पूर्व विधायक ओम प्रकाश पासवान की बम मारकर हत्या कर दी गई थी। पिता की हत्या के वक्त विमलेश की उम्र 14 साल थी और दिल्ली में पढ़ाई करते थे और उसके बाद वह गोरखपुर में ही पढ़ाई शुरू कर दिए।
जिनकी हत्या के बाद उनकी माँ सुभावती पासवान को जनता ने सहानुभूति लहर में सत्ता सौंपी। साथ ही चाचा चंद्रेश पासवान भी मानीराम विधान सभा से विधायक चुनकर सत्ता के गलियारे में भेजा। विमलेश पासवान ने किंग जार्ज मेडिकल कॉलेज लखनऊ से एमडीएमएस (मैक्सिलो फेशियल सर्जन) किया है।
Vimlesh-Paswan-2माँ के राजनीतिक सन्यास के बाद उनके बड़े भाई कमलेश पासवान बांसगांव से बीजेपी से दो बार से सांसद हैं, जबकि मां सुभावती भी विधायक रह चुकी हैं। ऐसे में लाज़मी है कि जब पूरा कुनबा ही राजनितिक रहा हो तो एक बेटा क्यों न राजनीतिक ककहरा पढ़ेगा।
विमिलेश की पत्नी डॉक्टर मोहिता पासवान भी जबलपुर मेडिकल कालेज से बी डी एस कर दन्त चिकित्सा के पेशे से जुडी है और अपने आवास में ही क्लीनिक चलाती है।
Vimlesh-Paswan-with-his-fatविमलेश पासवान राजनितिक रूप से काफी समृद्ध है। उनके पिता ओम प्रकाश पासवान 1979 से लेकर दस वर्षो तक लगातार चरगांवा ब्लाक के प्रमुख थे।यही से उनका राजनितिक सफ़र गोरक्षनाथ मंदिर के साये में बढ़कर मानीराम विधानसभा क्षेत्र से 1989-1991 और 1993 में लगातार विधायक और 1996 में सपा के बैंनर तले सांसदी का सफ़र शुरू हुआ। जहां 1996 में बांसगांव से लोकसभा चुनाव में सभा के दौरान बांसगांव क्षेत्र में कुख्यात अपराधी राकेश यादव ने बम मारकर उनकी हत्या कर दी थी।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *