टॉप न्यूज़

कुशीनगर: दो मुसहरों की कुपोषण और भूख से मौत के बाद प्रशासन, नेताओं में आई संवेदनशीलता

मोहन राव राजपूत
कुशीनगर: पूर्वांचल की वह धरती जो अन्न बरसाती है। पीने का पानी जहाँ आसानी से उपलब्ध हो जाता है। उस धरती पर अगर भूख और कुपोषण से मौत होती है तो ऐसी घटना विश्व के इस सबसे बड़े लोकतंत्र के मुंह पर करारा तमाचा है। सरकार के लिए इससे बड़ी शर्म की बात और कुछ हो ही नहीं सकती। एक तरफ नेता जाति -जाति और धर्म-धर्म खेल रहे हैं दूसरी तरफ संवेदनहीन प्रशासनिक व्यवस्था के अंतर्गत मुसहरों के निवाले भी छीन जा रहे हैं। अधिकारी मस्त होकर जनता के हिस्से को लूट खसोट कर गाड़ी, बंगला, और जमीन जायदाद खरीदने में लगे हैं। वहीँ जनपद में एक माह में 5 मुसहरो की मौत ने आम जनमानस को झकझोर कर रख दिया है।

शुक्रवार को जनपद के पडरौना नगर से जंगल खिड़कियां गांव में 2 मुसहरों की कुपोषण और भूख से मौत हो गई। काल के गाल में समाने वाले दोनों मुसहर फेकू 30 वर्ष और उसका छोटा भाई पप्पू 20 वर्ष के थे। जिनकी शरीर कुपोषित हो गई थी। दोनों भाई घर के कमाऊ पूत थे। पिता का साया उठने के बाद दोनों भाइयों के कंधों पर घर चलाने की जिम्मेदारी आई थी। दोनों भाईयो के बीमार पड़ने से घर का चूल्हा कई कई दिन नहीं चल पाता था। मां सोनवा देवी गांव के लोगों के वहां से मांग कर लाती थी तो उस दिन काम चल जाता था। हालांकि जिलाधिकारी का कहना है कि दोनों भाइयों की मौत टीबी बीमारी से हुई है। फिर भी पहलुओं की जांच कराई जा रही है अगर कोई इसमें दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी।

ग्रामीणों ने स्वास्थ्य विभाग को दी थी जानकारियां
जंगल खिरकिया गांव के लोग बताते हैं कि गांव के कुपोषित मुसहरो की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को दिया गया था। लेकिन कोई डॉक्टर या स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव में नहीं आई। इसको लेकर लोगों में रोष भी है। सबसे अहम पहलू यह है कि यह गांव उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य की विधानसभा क्षेत्र में आता है। क्या मंत्री जी का कर्तव्य नहीं बनता है कि अपने विधानसभा की गांव की हाल चाल जाने।

दो मुसहरों की मौत के बाद जगा प्रशासन
जिले के जंगल खिरकिया में दो सगे भाइयों की मौत के बाद प्रशासन अपनी नींद से जगा है। जिलाधिकारी के हवाले से पत्रक जारी किया गया है। जिसमे समस्त मुसहर गांव में स्वच्छता अभियान तथा ओडीएफ घोषित, स्वास्थ्य मेला का आयोजन, सु-पोषण आहार अभियान/मेला का आयोजन, मुसहर गांव में समस्त योजनाओं संतृप्त करने तथा खाद्य आपूर्ति विभाग की योजनाओं का सघन अभियान चलाने की बात कही गई है। आम जनमानस के मन में यह प्रश्न उठ रहा है कि यह कदम पहले क्यों नहीं उठाया गया। क्या प्रशासन लोगों की मौत का इंतजार करता है

गांव में नेताओं का पहुंचना शुरू हो गया है
मुसहरों की मौत के बाद जंगल खिड़कियां गांव में नेताओं का पहुंचना शुरू हो गया है। जंगल खिड़कियां में हिंदू वाहिनी नेता प्रभारी राजेश्वर सिंह शनिवार को गांव में पहुंचकर स्थिति का अवलोकन किए। उन्होंने कहा कि कल मुख्यमंत्री से गोरखपुर में मिल कर घटना के सभी पहलुओं से अवगत कराऊंगा साथ ही घटना की उच्चस्तरीय जांच की मांग करूंगा। उन्होंने प्रशासन को चेताया कि समय रहते प्रशासन नहीं चेता तो आंदोलन की राह परहेज नहीं करूंगा।

इसी क्रम में सपा के नेता पूर्व राज्य मंत्री राधेश्याम सिंह ,पूर्व सांसद बालेश्वर यादव, सपा जिलाध्यक्ष इलियास अंसारी राशन और आर्थिक मदद के साथ गांव पहुंचे। नेताओं ने मृतक के परिवार को सांत्वना दिया तथा सरकार से प्रत्येक मृतकों को दस लाख-दस लाख रुपए आर्थिक सहायता देने की मांग की। वहीँ पूर्व गृह राज्य मंत्री कुंवर आरपी एन सिंह ने रात में ही अस्पताल पहुंचकर दोनों भाइयों की मौत की जानकारी ली थी।

घटनाओं का जिम्मेदार कौन?
जनपद में अत्यंत गरीब समुदाय मुसहरो के लिए योगी सरकार ने तरह-तरह की योजनाएं चला रखी है । लेकिन यह सभी योजनाएं भ्रष्टाचार की बलिवेदी पर चढ़ रही हैं। योगी आदित्यनाथ का मुसहरों से काफी लगाव रहा है। मुख्यमंत्री बनने के पूर्व वह लगातार मुसहरों की समस्याओं के लिए संघर्ष किए थे। मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने तमाम योजनाएं मुसहरों के लिए घोषित किए। साथ ही उन्होंने कहा था कि मुसहरों की भूख से मौत होती है तो सीधे वहां के जिलाधिकारी जिम्मेदार होंगे। जिम्मेदारी के प्रश्न पर अब यह प्रश्न उठता है कि क्या उस विधानसभा के प्रतिनिधि की जिम्मेदारी नहीं ? उस ग्राम सभा के ग्राम पंचायत की जिम्मेदारी नहीं? क्या राशन उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी कोटेदार की नहीं? क्या स्वंय सेवी और सामाजिक संस्थाओ की नही आदि-आदि। लेकिन यक्ष प्रश्न यही है कि सिस्टम में आखिर वो कौन आएगा जो ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति होने से रोकेगा?

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *