टॉप न्यूज़

पूर्वांचल में भारत बंद का व्यापक असर, गोरखपुर मण्डल के सभी शहरों में बंद रहा सफल

–कस्बे में सड़क पर हुई आगजनी
–सिटी माल व अन्य शापिंग माल पर भी दिखी वीरानगी

अरविन्द श्रीवास्तव
गोरखपुर: पूर्वांचल में भारत बंद का व्यापक असर रहा। दुकानें बंद कर सड़क पर उतरे लोग। एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के खिलाफ सवर्ण समाज के भारत बंद के दौरान गोरखपुर, बस्ती मंडल में गुरुवार को लोग सड़कों पर उतरे। गोरखपुर में लोगों ने अपनी दुकानें बंद रखीं। मुख्य बाजार गोलघर समेत शहर की अधिकांश दुकानें बंद रहीं। सिटी मॉल व कुछ अन्य मॉल को खुला देख बंदी समर्थकों ने जम कर बवाल काटा।

छात्र-छात्राओं और सर्वण समाज पार्टी के कार्यकर्ताओं ने जुलूस निकाल कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। लेकिन हर जगह विरोध प्रदर्शन एक सीमा के भीतर ही रहा। बंदी की पूर्व घोषणा के कारण शहर में अधिकांश दुकानदारों ने अपनी दुकानें बंद रखीं। विरोध प्रदर्शन कर रहे सवर्ण समाज पार्टी के कार्यकर्ताओं ने जुलूस निकाल कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। कार्यकर्ताओं ने कहा कि सरकार वोट के लिए सवर्णों का उत्पीड़न कर रही है।

गोरखपुर में आंदोलन को जबरदस्त जनसमर्थन मिला। एक शापिंग माल को खुला देख प्रदर्शनकारियों ने शोर शराबा किया और पत्थरबाजी भी शुरू की लेकिन ऐन वक्त पर पुलिस के पहुंचते ही मामला शांत हो गया। सेंट एंड्रयूज डिग्री कालेज के छात्रों ने जुलूस निकाल कर कहा कि एक्ट संशोधन अन्यायपूर्ण और बर्दाश्त करने योग्य नहीं है।

अलग-अलग जगहों से निकले संगठन के पदाधिकारी और सदस्य दोपहर तक गोलघर में इकट्ठा हुए और जुलूस की शक्ल में सरकार के विरोध में नारेबाजी की। सवर्ण समाज के लोगों को बड़ी संख्या में सड़क पर देखकर बाजार में इक्का दुक्का खुली दुकानें भी बंद हो गईं।

गोलघर में ज्यादातर दुकानें बंद रहीं। इसके बाद जुलूस सिनेमा रोड होते हुए विजय चौक पहुंचा। गोरखपुर के गोला कस्बे में प्रदर्शनकारियों ने सड़क पर आग लगाकर अपना विरोध दर्ज कराया।

कुशीनगर: भारत बंद का दिखा असर, बार एसोसिएशन ने राष्ट्रीय राजमार्ग किया जाम

जनपद में बन्द का असर देखने को मिला। जनपद के जिला एवं सत्र न्यायालय में बार एसोसिएशन के अधिवक्ताओं ने भी सभी न्यायिक कार्यों से अपने को विरत कर इस भारत बंद आन्दोलन को समर्थन प्रदान किया। अधिवक्ताओं ने हुजूम बनाकर न्यायालय में नारेबाजी कर एससी एसटी अध्यादेश का विरोध प्रदर्शन जताने के बाद न्यायालय मुख्य द्वार के सामने राष्ट्रीय राजमार्ग 28 बी पर आकर प्रदर्शन करने लगे जिसके कारण राष्ट्रीय राजमार्ग पर बहुत ही लम्बा जाम लग गया। अधिवक्ता एसडीएम द्वारा आकर ज्ञापन लिए जाने की मांग पर अड़े थे तथा सरकार विरोधी नारेबाजी कर सड़क जाम कर धरना सभा को सम्बोधित कर रहे थे। अधिवक्ताओं द्वारा सड़क जाम करने के कुछ ही मिनटों में सड़क के दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतार लग गयी।

देवरिया: एससी-एसटी के खिलाफ भारत बंद का देवरिया में मिला जुला असर

जनपद में अनुसूचित जाति-अनुसूचित जन जाति(एससी-एसटी) संशोधन अधिनियम के विरोध में भारत बंद का देवरिया में मिला जुला असर देखने को मिला। मिली जानकारी के अनुसार एससी-एसटी संशोधन एक्ट के विरोध में आज देश व्यापी हड़ताल का यहां कोई प्रभाव देखने को नहीं मिल रहा हैं।देवरिया शहर में दुकानें,स्कूल खुले देखे गये ग्रामीण क्षेत्रों और कस्बों में भी आज के हड़ताल का यहां कोई विशेष प्रभाव नहीं देखा गया हैं।जिले में कुछ जगहों पर मामूली रूप से कुछ देर के लिये सड़क जाम कर विरोध करने की सूचना मिली हैं,लेकिन वह मात्र प्रतीक रूप से रास्ता जाम करने की सूचना मिल रही है। दीवानी कचहरी में कुछ वकीलों ने इस अधिनियम में हुये संशोधन के विरोध में नारेबीजी कर अपना विरोध प्रगट किये।दीवानी अधिवक्ता संघ ने आज एक प्रस्ताव देकर जिला जज से आग्रह किया कि भारत बंद के वजह से आवागमन प्रभावित हो सकते हैं,इसकों देखते हुये पत्रावलियों में सामान्य तारीख लगाई जाय।

महराजगंज: फरेंदा में युवाओ ने एससी एसटी एक्ट के विरोध में किया प्रर्दशन, कालेज बंद

जिले के फरेन्दा कस्वे में एससी एसटी एक्ट के विरोध में गुरुवार को युवा सड़क पर उतरकर केंद्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया, प्रदर्शन के दौरान युवाओं ने व्यापारियों से दुकाने बंद करने की करते रहे अपील। बता दे कि एससी-एसटी के मामले को लेकर आज पूरे प्रदेश में विरोध प्रदर्शन हो रहा है। आज भारत बंद के मदेनजर शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए पुलिस और जीआरपी, आरपीएफ ने रेलवे स्टेशन पर सघन चेकिंग अभियान चलाया। जबकि नगर में पुलिस काफी चौकन्ना रही। इसी क्रम मेंएल बीए पीजी कालेज फरेन्दा को छात्रो ने बंद करा कर छात्र छात्राओं ने प्राचार्य को एक सौंपा ज्ञापन, भी सौपा।

संतकबीरनगर: एससी एसटी एक्ट के विरोध में सवर्णो की बन्दी रही सफल

जनपद में एससी/एसटी कानून में केंद्र सरकार द्वारा संसोधन से भड़के सवर्ण समाज के विभिन्न संगठनों ने पूरे शहर में सैकड़ो की संख्या में जुलुस निकाल सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस दौरान राष्ट्रीय सवर्ण सेना के अलावा अन्य संगठनों के लोगों ने मिलकर शहर की तमाम दुकानों को बंद कराते हुए शहर क्षेत्र के खलीलाबाद बाईपास पर धरना प्रदर्शन किया। सवर्ण संगठनों के द्वारा बड़ी संख्या में निकाले गए जुलुश को लेकर जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन काफी एलर्ट दिखा जिसके तहत पूरे जिले में धारा 144 लागू करते हुए प्रशासन सवर्ण संगठनों के आंदोलन पर नजर जमाई हुई दिखी ।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *