टॉप न्यूज़

आज पेश होगा बजट 2018-19, नदारद होगा सस्ता-मंहगा फैक्टर; यहाँ जानिये हर अपडेट

आज पेश होगा बजट 2018-19

गोरखपुर: आज वित्त मंत्री अरुण जेटली बजट 2018-19 संसद में पेश करेंगे। यह बजट मोदी सरकार का आखिरी पूर्णकालिक बजट होगा। वित्त मंत्री अरुण जेटली जब 11 बजे बजट भाषण शुरू करेंगे तो सबकी नजर इस बात पर होगी कि वह कैसे उम्मीदों और चुनौतियों के बीच संतुलन बिठा पाते हैं।

आखिरी पूर्ण बजट होने से साथ साथ यह देश में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू होने के बाद पेश हो रहा पहला आम बजट भी होगा। ऐसे में यह सवाल लाजिमी है कि इस साल का बजट किस तरह पिछले किसी भी बजट से अलग होगा? दो और सवाल हैं, जीएसटी के बाद कितना बदल जाएगा बजट और क्या इस साल बजट से गायब होगा सस्ता महंगा फैक्टर?

विशेषज्ञ मान रहे हैं कि जीएसटी लागू होने के बाद सरकार के पास अप्रत्यक्ष करों में किसी बड़े बदलाव की गुंजाइश नहीं है। वह कर जिसे सीधे जनता से नहीं लिया जाता, लेकिन जिसका बोझ प्रकारांतर से उसी पर पड़ता है, अप्रत्यक्ष कर कहलाते हैं। देश में तैयार की जाने वाली वस्तुओं पर लगने वाला उत्पाद शुल्क, आयात या निर्यात की जाने वाले वस्तुओं पर लगने वाला सीमा शुल्क अप्रत्यक्ष कर हैं। अगर सरकार को अप्रत्यक्ष कर के मोर्चे पर किसी तरह का बदलाव करना है तो इसकी मंजूरी बजट से पहले जीएसटी काउंसिल की बैठक में लेनी होगी। गौरतलब है कि जीएसटी काउंसिल की अगली बैठक 18 जनवरी को होनी है।

बजट से नदारद होगा सस्ता-मंहगा फैक्टर

आमतौर पर बजट के बाद ज्यादातर लोगों की यह जिज्ञासा रहती है कि बजट के असर से कौन कौन सी चीजें सस्ती और महंगी हुईं। यह सस्ते महंगे की मूल वजह दरअसल अप्रत्यक्ष करों में बदलाव से जुड़ी होती है। अब चूंकि जीएसटी लागू होने बाद ज्यादातर अप्रत्यक्ष करों में बदलाव की गुंजाइश खत्म हो गई है इसलिए सस्ता महंगा फैक्टर इस बार के बजट में कम दिखेगा।

2017 में भी हुए थे बड़े बदलाव

साल 2017 का आम बजट अपने साथ तमाम बदलावों को समेटे हुए था। पिछली साल सरकार ने बजट के प्रारूप को लेकर महत्वपूर्ण बदलाव किये थे। मसलन, आम बजट और रेल बजट का विलय, बजट 1 महीने पहले पेश करने की शुरुआत और योजना और गैर योजनाबद्ध खर्चों में अंतर को खत्म करना। ये बदलाव इस साल भी लागू रहेंगे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *