टॉप न्यूज़

एक दशक बाद गीडा में फिर से होगा औद्योगिक निवेश, सीएम के आह्वान पर कई कम्पनियों ने भरी हामी

गोरखपुर: लगभग एक दशक के बाद गीडा में एक बार फिर निवेश का माहौल बनता दिख रहा है। करीब दर्जन भर उद्यमी अगले साल तक इस औद्योगिक क्षेत्र में 800 करोड़ से अधिक निवेश करने को तैयार हैं। बाबा रामदेव की पंतजलि फूड पार्क के निर्माण को लेकर सक्रिय दिख रही है। सर्वाधिक रूचि स्टील प्लांट को लेकर दिख रही है।

बता दें कि पिछले अक्तूबर महीने में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोकुल अतिथि भवन में आयोजित औद्योगिक विकास सम्मेलन में उद्यमियों को सहूलियत का वादा किया था। मुख्यमंत्री की मौजूदगी में ही प्रमुख सचिव औद्योगिक विकास और अंकुर उद्योग के अशोक जलान के बीच 300 करोड़ के मेगा स्टील प्लांट के प्रोजेक्ट को लेकर समझौता हुआ था।

मुख्यमंत्री के आह्वान का असर हुआ है कि स्थानीय उद्यमियों ने नये-नये प्रोजेक्ट पर काम करना शुरू कर दिया है। गीडा में उद्यमियों ने कई प्रोजेक्ट मंजूरी के लिए प्रस्ताव दिया है। पूर्वांचल की इकलौती कंपनी गैलेंट इस्पात भी प्लांट के विस्तारीकरण पर करीब 397 करोड़ रुपये खर्च कर रही है। पूर्वांचल के प्रमुख उद्यमी अमर तुलस्यान भी करीब 50 करोड़ की लागत से डायपर और नैपकीन प्लांट लगाने जा रहे हैं।

वहीं आईजीएल ने एथेनाल और एल्कोहल के नये प्लांट को लेकर पहल किया है। गीडा में 50 करोड़ की लागत से राजश्री निर्माण प्राइवेट लिमिटेड स्टील प्लांट लगाएगा। 12 करोड़ की लागत से माड्यूलर फर्निचर फैक्ट्री लगाएगा। 25 करोड़ की लागत से आईजीएल एथेनाल और एल्कोहल का नया प्लांट लगाएगा।कुछ इसी तरह 25 करोड़ की लागत से क्रेजी ब्रेड के नवीन अग्रवाल नया एफएम सीजी प्लांट लगाएंगे। वहीं 7 करोड़ की लागत से मेसर्स एसडी इंटरनेशनल डिस्पोजल का प्लांट लगाएगा।

50 करोड़ से वीएन डायर्स टेक्सटाइल उद्योग इंडस्ट्रीयल एरिया में फैक्ट्री लगाएगा। वहीं 20 करोड़ से आईटी पार्क विकसित किया जाएगा। साफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ इंडिया (एसटीपीआई) इसे विकसित करने की तैयारी में है।आईटी पार्क की स्थापना से ग्रामीण बीपीओ और स्टार्ट-अप उद्यमियों के आगमन की शुरूआत होगी। इस परियोजना से लगभग 15000 व्यक्तियों के लिए रोजगार के अवसर सृजित होने की संभावना है।

आईटी पार्क का 20 प्रतिशत स्थान केवल स्टार्ट अप के लिए आरक्षित किया गया है। गिडा में एसटीपीआई द्वारा स्थान आवंटित किये जाते समय उत्तर प्रदेश के मूल निवासियों के प्रोत्साहन के लिए 25 प्रतिशत आरक्षण प्रदान किया जायेगा। उद्यमियों की सहूलियत के लिए गीडा प्रशासन सीईटीपी लगा रहा है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *