टॉप न्यूज़

शेल्टर होम मामला: देवरिया के डीएम हटाये गये, डीपीओ निलम्बित

अरविन्द श्रीवासतव
गोरखपुर: सीएम योगी आदित्यनाथ ने सभी जिला अधिकारियों को बाल गृह और महिला संरक्षण गृह का व्यापक निरीक्षण करने का निर्देश दिया है। यूपी के देवरिया में भी शेल्टर होम में बिहार जैसी घटना सामने आई है। देवरिया प्रकरण में मुख्यमंत्री के निर्देश पर जिलाधिकारी सुजीत कुमार को हटाने व डीपीओ प्रभात कुमार को सस्पेंड किये जाने का निर्देश जारी किया है। इस मामले में प्रमुख सचिव महिला और बाल कल्याण रेणुका कुमार को दो दिन में जांच रिपोर्ट शासन को सौंपने को कहा गया है।

दरअसल देवरिया जनपद के मां विंध्यवासिनी महिला प्रशिक्षण एवं समाज सेवा संस्थान द्वारा संचालित बाल गृह बालिका,बाल गृह शिशु और सुधार गृह की मान्यता पर शासन ने रोक लगा दिया था। बावजूद इसके उक्त संरक्षण गृह बिंदास चलाया जा रहा था। पिछले सप्ताह जब प्रशासनिक अधिकारियों ने वहां पहुंच कर संरक्षण गृह खाली करने और वहां रह रही महिलाओं को जाने को कहा तो वहां की महिलाओं ने कहीं और जाने से मना कर दिया। शाम का वक्त होने के कारण प्रशासनिक अधिकारी मजबूर थे और उस शाम सभी वापस चले गये।

रविवार की शाम को एक किशोरी संरक्षण गृह से भागकर सीधा पुलिस के पास पहुंची एक युवती ने जब अपनी पीड़ादायी कहानी पुलिसकर्मियों को बताया तो बात एसपी के कानों तक जा पहुंचा। फिर क्या था पुलिस टीम ने एकबार फिर से उक्त संरक्षण गूह पर दबिश दी जिसमें मौके से 18 युवतियों का कहीं कोई पता नहीं चला। शेष वहां मिली 24 महिलाओं व युवतियों का शासन ने वहां स बेदखल करा कर अपने साथ ले आयी। इतना गड़बड़झाला के बाद जिलाधिकारी सुजीत कुमार ने तत्काल उक्त संरक्षण गृह को सील करने का आदेश दिया।

हांलाकि सोमवार की सुबह जिलाधिकारी को वहां से हटाने का निर्णय लेते हुए प्रदेश मुखिया योगी आदित्यनाथ ने डीपीओ प्रभात कुमार को तत्काल निलम्बित करने का भी आदेश जारी किया। पुलिस अधीक्षक रोहन पी कनय ने बताया कि सदर कोतवाली क्षेत्र स्थित मां विंध्यवासिनी महिला प्रशिक्षण एवं समाज सेवा संस्थान द्वारा संचालित बाल गृह बालिका, बाल गृह शिशु और सुधार गृह की मान्यता पर शासन द्वारा रोक लगाये जाने के बाद भी उसे चलाया जा रहा था। अब तक जितनी भी किशोरियां व महिलाएं रह रही थीं वह सब अवैध रह रही थीं।

बताया जाता है कि पुलिस ने संचालिका गिरजा त्रिपाठी समेत उनके पति मोहन त्रिपाठी और उनकी पुत्री कनक त्रिपाठी को भी हिरासत में लिया गया है लेकिन पुलिस अभी कनक त्रिपाठी की गिरफ्तारी को पुष्ट नहीं कर रही है।

लखनऊ जीपीओ में प्रदर्शन

देवरिया की घटना को लेकर लखनऊ में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन, जीपीओ गांधी प्रतिमा पर देवरिया से आए सपा कार्यकर्ताओं ने सीबीआई जांच की मांग को लेकर प्रदर्शन किया। सपा कार्यकर्ताओं का आरोप है कि सत्ता के संरक्षण में यह खेल काफी दिनों से खेला जा रहा था। संचालिका गिरजा देवी पर सेक्स रैकेट चलाने का पहले से ही आरोप लगता रहता आया है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *