टॉप न्यूज़

26 साल बाद फिर खुलेगा फ़र्टिलाइज़र; तैयार होने के बाद प्रति दिन करेगा 3850 टन यूरिया का उत्पादन

closed-fertiliser-plant-in-गोरखपुर: 1990 में एक कमर्चारी की मौत के बाद उपजे राजनितिक लड़ाई के नाते जो खाद कारखाना बंद हो गया था वो पुरे 26 वर्ष बाद एक बार फिर खुलेगा। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को इस कारखाने को दुबारा चालू करने के लिए नींव रखेंगे।
पहले से अलग इस बार यह कारखाना गैस आधारित होगा और अपने पहले की कैपेसिटी 950 टन के मुकाबले एक बार तैयार हो जाने के बाद यह कारखाना 3850 टन यूरिया का उत्पादन प्रति दिन करेगा।
खाद कारखाने का रिवाइवल केंद्र सरकार लगभग 6000 करोड़ रुपये के इन्वेस्टमेंट से करेगी। इस खाद कारखाने का निर्माण एनटीपीसी, कोल् इंडिया, इंडियन आयल और फ़र्टिलाइज़र कारपोरेशन इंडिया द्वारा मिल कर किया जायेगा।
चुकि यह कारखाना गैस आधारित होगा इसलिए गेल जगदीशपुर से हल्दिया तक एक पाइप लाइन भी बिछाएगा। इस पाइप लाइन को बिछाने में तक़रीबन 12000 करोड़ रुपये की लगत आएगी।
प्रधान मंत्री शुक्रवार को खाद कारखाने के साथ एम्स की आधारशीला भी रखेंगे। सूत्रों के अनुसार प्रधान मंत्री शुक्रवार को 11 बजे गोरखपुर पहुँच कर सीधे गोरखनाथ मंदिर जायेंगे। वहा से 12 बजे वो फ़र्टिलाइज़र और एम्स कारखाने की आधारशिला रखने जायेंगे।
गोरखपुर में फ़र्टिलाइज़र कारखाना और एम्स के खुल जाने के बाद ये दोनों संस्थाएं प्रत्य्क्ष और परोक्ष रूप में लाखों लोगो को रोजगार के अवसर पैदा करेगी।

fb

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *