टॉप न्यूज़

अक्षय तृतीया के दिन होगा खाद कारखाना निर्माण का शुभारंभ, विधि विधान से रखी जायेगी पहली ईंट

गोरखपुर: हिन्दू धर्म मे अक्षय तृतीया का महत्व मूलतः आभूषणों के मामले में माना जाता है।लेकिन इस पर्व पर अब गोरखपुर के बहुप्रतीक्षित फर्टिलाइजर कारखाने के निर्माण की पहली ईंट रखकर इसे भी शुभ कार्य बनाया जाएगा। बता दें कि कभी 1970 से 1990 के दशक के बीच पूरे देश मे स्वस्तिक छाप यूरिया के लिए मशहूर गोरखपुर का फर्टिलाइजर कारखाना 1990 से 2000 के दशक में एकबार जो बन्द हुआ, तो फिर बन्द ही रहा।

फिर सभी पार्टियों ने आमजन की भावनाओ को समझते हुए इसको खोलने और नया कारखाना स्थापित करने के लिए राजनीति के तहत आंदोलन भी किया और एमपी, एमएलए के चुनावों में इसे मुद्दा भी बनाया, लेकिन नतीजा सिफर रहा। यूपीए सरकार में इसे चालू करने की बात भी चली। बाद में 2014 के आम चुनाव के पहले प्रचार करने वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आम जनमानस की रग पर हाथ रखते हुए सरकार बनने पर इसके शुरू कराने की घोषणा किया। जो उन्होंने पीएम बनते ही पुनः गोरखपुर आकर एक साथ फर्टिलाइजर और एम्स के शुरुआत की घोषणा करते हुए शिलान्यास भी कर दिया।

लगभग 600 एकड़ में स्थापित हो रहे इस आधुनिक प्लांट से करीब 13 लाख मिट्रिक टन नीम कोटेड यूरिया का उत्पादन होगा और न्यूनतम सल्फर डाई आक्साइड का उत्सर्जन होगा।आशा जताई जा रही है कि दिसंबर 2020 में इस प्लांट से उत्पादन शुरु हो जायेगा। इसके निर्माण से हजारों की संख्या में लोगों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार भी मिलेगा।

इसके बाद मार्च 2017 में प्रदेश में भी भाजपा के योगी की सरकार गठित हुई तो रही सही कसर भी पूरी हो गयी। अब सीएम और पीएम का यह ड्रीम प्रोजेक्ट फर्टिलाइजर शुरू करने के लिए इसका जिम्मा हिन्दुस्तान उर्वरक एवं रसायन लिमिटेड को दिया गया। जो तीन कंपनियों एनटीपीसी, आईओसीएल और कोल इंडिया का समूह है।केंद्रीय समिति द्वारा बनाये गए प्रोजेक्ट के मुताबिक इसके निर्माण पर लगभग 6 हजार500 करोड़ रुपये का खर्च होना है।

इसे बनाने का जिम्मा जापानी कंपनी टोयो को मिला है।जो मशीनरी समेत सभी निर्माण कार्य करेगी। जिसे टेंडर मिलते ही टोयो कंपनी द्वारा पुराने खाद कारखाने की मशीनरी की हटाते हुए परिसर की जमीन के समतल करने का काम भी बहुत तेजी से किया गया है।अब 18 अप्रैल को अक्षया तृतीया तिथि पर नये खाद कारखाने की नींव बनाने और इसमें पहली ईंट रखने का कार्य प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में जापानी कंपनी टोयो करेगी।

इस सम्बंध में महाप्रबंधक राम कुमार गुप्ता का कहना है कि अक्षय तृतीया के महत्व को देखते हुए इसके निर्माण कार्य को 18 अप्रैल को विधिवत पूजन के साथ शुरु कराया जायेगा।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *