टॉप न्यूज़

तालाब में डूबने से चार किशोरों की मौत, इलाके में मातम

–एक-दूसरे को बचाने में एक के बाद एक डूबे चारों किशोर
–एक ही मोहल्ले से एक साथ निकले थे आठ दोस्त
–चार को बमुश्किल बचाया गया

अरविन्द श्रीवास्तव
गोरखपुर: शहर के उत्तरी हिस्से में रोहिन नदी के किनारे एक बड़ा हादसा हो गया। तालाब में नहाने गए 8 किशोरों में से चार की मौत हो गई। चार अन्य दोस्तों को बमुश्किल बचा लिया गया। सभी एक ही मोहल्ले के रहने वाले थे। किसी भी किशोर को तैरना नहीं आता था और एक-दूसरे को बचाने में चारों की जान चली गई।

गोरखनाथ थाना क्षेत्र के रसूलपुर मोहल्ला के रहने वाले 10 से 17 साल की उम्र के 8 किशोर पास के नया गांव इलाके में बसे ग्रीन सिटी के किनारे तालाब में नहाने गए थे। आठों किशोरों ने घर पर नहीं बताया था कि वह तालाब में नहाने जा रहे हैं। इसी बीच एक किशोर का संतुलन बिगड़ गया और वह गहरे पानी मे चला गया। दोस्त को बचाने के चक्कर में एक के बाद एक किशोर भी गहरे पानी में उतर गए। हालांकि उनमें से किसी को तैरना नहीं आता था।

इस कारण वे डूबने लगे और जान बचाने के लिए मदद की गुहार करने लगे। तालाब के आसपास लोगों के मौजूद नहीं होने के कारण मौके पर मदद के लिए पहुंचने में थोड़ा वक्त लग गया। जब तक पुलिस और ग्रामीण मौके पर पहुंचते, 4 किशोर गहरे पानी में डूब चुके थे।

मौके पर पहुंचे इंस्पेक्टर गोरखनाथ ए.के. सिंह, अन्य पुलिसकर्मी और ग्रामीण भी कपड़ा उतार कर तालाब में कूद गए और डूब रहे चारों किशोरों को बचा लिया। हालांकि डूब चुके 4 किशोरों के शव जब बाहर निकली तो उनके परिजन और ग्रामीणों की चीत्कार से माहौल गमगीन हो गया।

ग्रामीणों की मदद से पुलिस ने चार बच्चों को बचाया: सीओ गोरखनाथ

घटना की सूचना मिलने के तुरंत बाद मौके पर पहुंचे सीओ गोरखनाथ प्रवीण कुमार सिंह ने बताया कि सभी किशोर रसूलपुर के रहने वाले थे। मृतकों में 15 वर्षीय निहाल, 12 वर्षीय पिंकू, 17 वर्षीय अमीन और 14 वर्षीय उजैर मोहम्मद हैं। सूचना मिलते ही गोरखनाथ पुलिस घटना स्थल पर पहुंच गयी और बेहोश एक किशोर समेत चार अन्य किशोरों को बाहर निकाला गया। अस्पताल में एक किशोर की मौत हो चुकी थी शेष चार को बचा लिया गया।

डूबने की सूचना पर घर से भागा हुआ आया था: एखलाक

उधर उजैर मोहम्मद के पिता एखलाक ने बताया कि उन्हें पता नहीं था कि उनका बेटा दोस्तों के साथ तालाब में नहाने के लिए आया है। उन्हें तालाब में बच्चों के डूबने की सूचना मिली। सूचना मिलने के बाद वह मौके पर पहुंचे, लेकिन वहां 4 बच्चों की मौत हो चुकी थी।

अभिभावक सतर्क हैं

सीएम सिटी में घटी इस घटना ने लोगों को हैरत में डाल दिया है। लोग बाग अब सोचने को मजबूर है कि थोड़ी सी लापरवाही से उनके बच्चों की जान जोखिम में पड़ सकती है। सदा सतर्क रहने की जरुरत है।

पुलिस खनन माफियाओं पर मौन क्यों

घटनास्थल के आसपास के ग्रामीणों का कहना है कि सारी कारस्तानी खनन माफियाओं की है। रात के अंधेरे में जेसीबी और ट्रैक्टर ट्राली लगाकर नदी के समतल पाट को तालाब का स्वरूप दे दिया। दरअसल पानी भरा होने के कारण अगल बगल और उन बच्चों को इस बात का अंदाजा ही नहीं था कि गढ्ढा अब तालाब का रूप ले चुका है। पुलिस के अधिकारियों ने भी कभी शुक्रवार की हुई इस हृदयविदारक घटना के बाबत खनन माफियाओं पर एक बार भी नहीं बोला।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *