टॉप न्यूज़

निमंत्रण कार्ड में घपला, बेचे जाने का आरोप; अधिकारियों, व्यापारियों का ऐशगाह बना गोरखपुर महोत्सव

अरविन्द श्रीवास्तव
गोरखपुर: विगत वर्ष की भांति इस वर्ष भी आयोजित होने वाले गोरखपुर महोत्सव पर विभिन्न राजनीतिक दलों व संगठनों ने गंभीर आरोप लगाया है । इनका कहना है कि पर्यटन विभाग द्वारा प्रिंट कराए गए लगभग 8 हजार निमंत्रण कार्ड मे से 3 हजार निमंत्रण कार्ड महोत्सव के निमंत्रण समिति द्वारा वितरित किए गए हैं।शेष कार्ड सन्देह के घेरे में आ गये है।

गोरखपुर के नागरिकों को अपने जनपद की धार्मिक, साहित्य, सामाजिक, राजनैतिक, भौगोलिक, ऐतिहासिक, आर्थिक धरोहर को जानने व पहचानने के लिए गोरक्षपीठाधीश्वर व प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशों पर विगत वर्ष की भांति इस वर्ष भी गोरखपुर महोत्सव 2019 का आयोजन 11, 12 व 13 जनवरी को धूमधाम से आयोजित किया गया है।

गोरखपुर में तैनात अधिकारियों उनके परिवारों, उद्योगपतियों, व्यापारियों अन्य सामाजिक व्यक्तियों को आमंत्रित किए जाने के जिम्मेदारी महोत्सव समिति के द्वारा गठित उप समिति को दी गई है। जिसने लगभग तीन हजार निमंत्रण कार्ड वितरित किए जबकि पर्यटन विभाग के द्वारा शासन के निर्देशों पर लगभग 8 हजार निमंत्रण कार्ड छपाई किया गया। शेष पाच हजार निमंत्रण कार्ड किधर गए, किन को दिया गया इसका लेखा-जोखा फिलहाल निमंत्रण समिति के पास नहीं है।

महोत्सव में अधिकारियों उद्योगपतियों, व्यापारियों व उनके परिवारों को बैठने के लिए जहां वीवीआइपी व्यवस्था करके मंच के सामने बनाई गई है तो वहीं जिन नागरिकों के लिए यह महोत्सव का आयोजन किया गया है उन्हें स्टैंडिंग अवस्था में छोड़ दिया गया है। इस घटना पर विश्वविद्यालय के शिक्षक संघ ने घोर आपत्ति करते हुए गंभीर आरोपों की झड़ी खड़ी कर दी। तो वही समाजवादी पार्टी, निषाद पार्टी, सीपीआई, आर एस पी, हिंदू जागरण मंच इत्यादि विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ताओं ने भी आपत्ति व्यक्त किया।

इनका कहना है कि जिला प्रशासन को शेष 5 हजार कार्डों का जवाब जरूर देना चाहिए। अपने आरोपों में कहा कि घपला हुए कार्डो में से अधिकांश कार्ड अधिकारियों के ड्राइवर व अर्दली पीए महोत्सव स्थल पर विभिन्न लोगों के हाथों में बेचते हुए देखे गए। हालांकि इस घटना की पुष्टि नहीं हो सकी।

महोत्सव के आमंत्रण समिति के सदस्य जिला विकास अधिकारी डॉ बब्बन उपाध्याय से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि गुरुवार की शाम तक लगभग 3000 निमंत्रण कार्ड वितरित किए गए। जिसमें विभिन्न विभागों से प्राप्त सूची के अनुसार समाज के सभी वर्गों को निमंत्रण कार्ड दिया गया है । प्रमुख रूप से सभी जनप्रतिनिधि गण, अधिकारी, उद्योगपति, प्रमुख व्यापारी, मीडिया कर्मी इत्यादि शामिल है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *