टॉप न्यूज़

भोजपुरी गायक खेसारी लाल यादव ने सीएम योगी से कहा, अपने गुंडे मंत्री को काबू में करो

राकेश मिश्रा
गोरखपुर: कभी अपने गानों के बोल तो कभी सोशल मीडिया पर अपने कमेंट के कारण हमेशा विवादों में रहने वाले भोजपुरी गायक ने इस बार सीधे किसी और को नहीं बल्कि सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ को ही नसीहत दे डाली है। एक जमीन के मामले में ट्विटर पर कमेंट करते हुए भोजपुरी गायक ने योगी आदित्यनाथ से कहा है कि वो अपने गुंडे मंत्री को काबू में करें।

भोजपुरी गायक खेसारी लाल यादव ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि,”बलिया जिला के सदर तहसील के अंतर्गत बौरीया निवासी विश्वनाथ यादव के जमीन पर बीजेपी के मंत्री उपेन्द्र तिवारी के इशारे पर प्रतिनिधि अंजनी औझा द्वारा अवैध कब्जा के साथ प्रभाव द्वारा गलत धाराओ में पीडित को फंसाने के लिए धमकी दी गई है।@myogiadityanath जी अपने गुंडे मंत्री को काबू करो।”

भोजपुरी गायक खेसारी लाल यादव ने ट्वीट के साथ तीन प्रार्थना पत्र भी अपलोड किया है। उसमे से एक पत्र बलिया जिलाधिकारी के नाम से है तो वहीँ एक पत्र सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ को सम्बोधित कर के लिखा गया है।

यह पहला मौका नहीं है जब खेसारी लाल यादव सीधे-सीधे किसी राजनीतिज्ञ से पन्गा ले रहे हैं। इससे पहले बिहार राज्य के वैशाली जिले में भोजपुरी सुपरस्टार खेसारी लाल यादव के कार्यक्रम में बिदुपुर में लोगों ने जमकर बवाल काटा था। इस दौरान उनकी गाड़ी पर ईंट-पत्थर चलाए गए। हादसे में खेसारी लाल यादव बाल-बाल बच गए थे। इस घटना के बाद खेसारी लाल यादव ने फेसबुक पर आकर एक बड़ा खुलासा किया।

खेसारी लाल यादव ने प्रभुनाथ सिंह के भतीजे सुधीर सिंह पर इस हमले का आरोप लगाया था। उन्होंने रोते हुए कहा था कि ‘मुझे दुख के साथ लाइव आना पड़ रहा है। मैं वैशाली जिले में एक शो करने गया था। वहां पर मेरे ऊपर पथराव हुआ। इस हमले के बाद मेरे बड़े भाई सुधीर सिंह ने लिखा कि मैंने अश्लीलता का आगाज कर दिया।’

इस घटना से पहले प्रभुनाथ सिंह के भतीजे सुधीर सिंह और खेसारी लाल में कुछ दिनों से लगातार विवाद चल रहा था। वैशाली में खेसारी के कार्यक्रम में हंगामे के बाद सुधीर सिंह ने फेसबुक पर भोजपुरी में अश्लीलता को लेकर पोस्ट भी लिखा था।

कभी लिट्टी चोखा की लगाते थे ठेला

भाेजपुरी के सुपरस्टार व पार्श्य गायक खेसारी लाल यादव अपने म्हणत के दम पर आगे बढे हैं। करीब दस साल पहले बिहार के छपरा में दूध बेचने वाले खेसारी लाल का चयन बीएसएफ में हाे गया था, लेकिन अपने अंदर के गायकी के जुनून को शांत करने के लिए वो नाैकरी छाेड़ दी अाैर दिल्ली अा गए।पैसे के लिए उन्होंने दिल्ली के अाेखला में लिट्टी-चाेखा की दुकान लगा ली। यहीं वह अपने ग्राहकाें काे गाना भी गाकर सुनाते थे।

लिट्टी-चोखा की दुकान से धीरे-धीरे पैसा एकत्र हाेने पर उन्हाेंने एल्बम निकाला। खेसारी काे पहली सफलता भाेजपुरी एल्बम ‘माल भेटाई मेला से’ मिली। फिर ‘संईया अरब गईले’ गाने ने उन्हें भाेजपुरी गायकी में पहचान दिला दी।

32 वर्ष के खेसारी लाल बेहद गरीब परिवार से हैं। उनके पिता मंगरू लाल यादव चना बेचते थे। घर की अार्थिक स्थिति इतनी खराब थी कि खेसारी लाल के सभी सात भाइयों ने बुरा दौर भी देखा। प्रारंभिक दाैर में खेसारी लाल बरात में महिला डांसर बनकर भी जाते थे। उन्हाेंने अपने प्रारंभिक दाैर के एल्बम में खुद ही महिला कलाकार काा राेल भी अदा किया है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *