टॉप न्यूज़

जीडीए पर जबरदस्ती का आरोप लगा मानबेला के किसानों ने किया भिक्षाटन

गोरखपुर मुआवजा नहीं दिए खिलाफ जम कर नारे बाजी

गोरखपुर: महानगर में राप्तीनगर विस्तार योजना के लिए मानबेला में जीडीए द्वारा अधिग्रहित की गयी ज़मीन का उचित मुआवजा नहीं दिए जाने का आरोप लगाते हुए मानबेला के किसानों ने रविवार को गोलघर स्थित चेतना तिराहे से कचहरी चौक तक भिक्षाटन किया तथा जीडीए और प्रदेश सरकार के खिलाफ जम कर नारे बाजी की।

आज गोलघर में प्रदर्शन कर रहे किसानों का कहना था कि सपा सरकार में जब मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ गोरखपुर के सांसद थे तो उन्होंने हम लोगों को उचित मुआवजा दिलाने का वादा किया था। लेकिन प्रदेश के मुखिया बनने के साथ ही उन्होंने किसानों के साथ वादाखिलाफी की है। जिससे किसान आज सड़क पर उतरकर भिक्षाटन करने को मजबूर हुए हैं।

उन्होंने कहा कि जीडीए अगर हम लोगों को सर्किल रेट से मुआवजा दे देता है तो हम उन्हें अपनी जमीन दे देंगे ,लेकिन जीडीए जबरदस्ती जमीन का चिन्हांकन कर आवंटियों को आवंटित कर रहा है जो न्याय संगत नहीं है । प्रदर्शन का नेतृत्व कर रही शकीला बानो ने कहा कि मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ गरीबों की पीड़ा को भूल गए हैं । मुख्यमंत्री अगर चाहे तो हम लोगों की जमीन का उचित मुआवजा सर्किल रेट के हिसाब से मिल सकता है।

गौरतलब है कि जीडीए ने मानबेला में 200 एकड़ जमीन राप्ती नगर विस्तार योजना के लिए 2004 में अधिग्रहित किया था। लेकिन किसानों ने मुआवजा की धनराशि कम होने का आरोप लगाकर आंदोलन शुरू कर दिया था। किसानों के आंदोलन को स्थानीय सांसद वर्तमान में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भी सहयोग मिला और उन्होंने जीडीए से मुआवजा देने की आदेश किया।लेकिन बाद में किसान सर्किल रेट पर अड़ गए और मामला खटाई में पड़ गया।

किसानों का नेतृत्व इस समय कांग्रेसी नेता राणा राहुल सिंह कर रहे हैं।3 दिन पहले जीडीए ने आवंटियों को कब्जा देने के लिए विवादित भूमि पर भारी फ़ोर्स के साथ पहुंचकर लगभग 100 आवंटियों को कब्जा दिया। विरोध पर उतरे किसानों को पुलिस के द्वारा घेराबंदी कर उन्हें अपने कब्जे में ले लिया गया था। उसके बाद 3 दिनों तक जमीन का कब्जा आवंटियों को दिया गया।

आज एक बार फिर मानबेला के किसान चेतना तिराहे पर प्रदर्शन करने लगे।जबकि इस समय प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखपुर में ही मौजूद है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *