टॉप न्यूज़

गीता प्रेस: अब 15 वीं भाषा नेपाली में छपेगी श्रीमद्भागवत गीता, तैयारियां पूर्ण

गोरखपुर: विश्व प्रसिद्ध गीता प्रेस का अपना एक अलग स्थान है,धार्मिक ग्रंथों की छपाई का इतिहास कायम करने में पहला स्थान गीता प्रेस ही है।पूरी दुनिया में धार्मिक किताबों के छापने का सबसे ऐतिहासिक कारखाना जो लगभग 92 सालो से पूर्व दुनिया में अपनी छवि बनाए हुए हैं। वही अब तक गीता प्रेस में 14 भाषाओं में गीता का धार्मिक पुस्तकें प्रकाशन कर चुका है। तमिल, तेलुगू,मलयालम, अंग्रेजी, कन्नड़,असमिया और हाल ही में उर्दू के बाद अब नेपाली भाषा में भी गीता का जल्द प्रकाशन होने जा रहा है।

इस सम्बंध में गीता प्रेस के प्रबंधक लालमणि तिवारी का कहना है कि अभी तक हम लोग 15 भाषाओं में गीता प्रकाशित कर चुके हैं। 15 भाषाओं में 1800 पुस्तकें हैं।उसमें गीता 14 भाषाओं में प्रकाशित है। इस समय सबसे लेटेस्ट जो गीता है उर्दू में है, इसके पहले भी हम लोग गीता उर्दू में छापे थे।लेकिन उसकी लिपि भी उर्दू में थी वह किताबे वही लोग पढ़ सकते थे ,जो उर्दू भाषा को जानते थे और उर्दू लिपि को जानते थे।

फिर यह महसूस हुआ कि जो लोग उर्दू भाषा जानते हैं, उर्दू जबान जानते हैं ,किन्तु उर्दू लिपि नहीं जानते हैं।इसके लिए देवनागरी लिपि में हम लोग गीता प्रकाशित करेंगे हमारी जो गीता है। वह नगमे इलाही के नाम से है।उसमें यह है कि उसकी भाषा उर्दू है, लेकिन लिपि उसकी देवनागरी है।जो उर्दू जानते हैं देवनागरी जाते हैं उसे आसानी से पढ़ सकते हैं। हम चाहते हैं इसमें हमारे जो बंधु हैं उर्दू के साथ गीता भी पढ़ें । अब इसके बाद अभी तक हम लोग नेपाली में काठमांडू में 20 पुस्तकें प्रकाशित कर चुके हैं।

उन्होंने बताया कि हमारी योजना है कि नेपाली में भी गीता प्रकाशित हो जाए।इसका काम लगभग पूरा हो चुका है ।काठमांडू में विद्वानों से अंतिम परीक्षण कराया जा रहा है।गीता का नेपाली में अनुवाद हो चुका है।यह पुस्तक न सिर्फ भारत-नेपाल संबंधों में एक नया अध्याय जोड़ेगी बल्कि केवल नेपाली भाषा जानने वाले नेपाली भी गीता के पठन-पाठन का लाभ उठा सकेंगे। गीता का नेपाली में अनुवाद की जिम्मेदारी काठमांडू में गीताप्रेस केंद्र के संस्थापक जयकिशन सारडा को दी गई है।

उन्होंने कई विद्वानों से गीता का नेपाली में अनुवाद कराया। इस कार्य में लगभग डेढ़ साल लगे। उत्पाद प्रबंधक लालमणि तिवारी ने कहा कि पुस्तक मिलने के बाद 15 दिन में इस पुस्तक का प्रकाशन कर दिया जाएगा।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *