टॉप न्यूज़

गोरखपुर महोत्सव की टाइटल स्पॉन्सरशिप गुटखा कम्पनी शुद्ध प्लस को दिए जाने पर OBC आर्मी ने जताई आपत्ति

गोरखपुर महोत्सव

गोरखपुर: ओबीसी आर्मी ने गुटखा व पान मसाला निर्माता कम्पनी शुद्ध प्लस को महोत्सव का मुख्य टाईटल स्पान्सर बनाये जाने तथा गोरखपुर महोत्सव में 9 महान विभूतियों को सम्मानित किये जाने वाले लोगों में OBC और SC जातियों के लोगों की उपेक्षा पर दुःख और विरोध दर्ज किया है।

बुद्धवार को ओबीसी आर्मी की बैठक का आयोजन स्थानीय कार्यालय पर ओबीसी आर्मी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कालीशंकर ओबीसी की अध्यक्षता में हुआ। बैठक में गोरखपुर में आयोजित होने जा रहे गोरखपुर महोत्सव में शुद्ध प्लस कम्पनी को मुख्य टाईटल स्पान्सर बनाये जाने पर बोलते हुए काली शंकर ने कहा कि जैसा कि सर्वज्ञ है कि पान मसाला,गुटखा स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। उस पान मसाला व गुटखा निर्माता कम्पनी शुद्ध प्लस को गोरखपुर महोत्सव का स्पान्सर बनाया गया है।

उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि गुटखा व पान मसाला को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा युवाओं,छात्रों और आम जनता में प्रोत्साहित किया जा रहा है, जो जनहित में कदापि नहीं है। मैं प्रशासन के लोगों व आयोजको से जानना चाहता हूँ कि क्या मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सहमति है कि शुद्ध प्लस को गोरखपुर महोत्सव का स्पान्सर बनाया जाये!

उन्होंने कहा कि भारतीय संविधान सभी जाति,धर्मो को समान अवसर प्रदान करने की बात करता है परन्तु देखने में आया कि गोरखपुर महोत्सव में विभिन्न क्षेत्रों की 9 महान विभूतियों को सम्मानित किया जाना है। जिस हेतु चयन समिति ने 9 लोगों का नाम चयनित किया है जो केवल और केवल सामान्य वर्ग से आते है। मैं चयनित उक्त महान विभूतियों का विरोध नहीं कर रहा हूँ। मैं भी चाहता हूँ कि उनका सम्मान किया जाये परन्तु यह भी जानना चाहता हूँ कि क्या ओबीसी, एससी व एसटी वर्ग से गोरखपुर में कोई महान विभूति नहीं है। इस पर मुझे आपत्ति है।

उन्होंने कहा कि गोरखपुर क्षेत्र में सर्वाधिक आवादी ओबीसी, एससी व एसटी की गोरखपुर के पूर्व सांसद व वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सार्वधिक इन्हीं वर्गो से वोट भी मिलता है तो ऐसा भेद-भाव क्यों किया जा रहा है। जिसे ओबीसी व एससी वर्ग के लोग बहुत ही संवेदनशीलता के साथ देख रहे है।

हम गोरखपुर महोत्सव के आयोजन समिति के अध्यक्ष मण्डलायुक्त गोरखपुर से मांग करते है कि उपरोक्त भेद भाव को खत्म किया जाये व शुद्ध प्लस को गोरखपुर महोत्सव की स्पान्सरशीप से हटाया जाये अन्यथा हम समझेंगे की इसमें मुख्यमंत्री जी की सहमति है जो जनहित में कदापि नहीं है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *