टॉप न्यूज़

सीएम से मिलने जा रहीं बीटीसी महिला प्रशिक्षुओं और पुलिस के बीच झड़प, एक घायल

अरविन्द श्रीवास्तव
गोरखपुर: पेपर लीक होने से निरस्त हुई परीक्षा के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने गोरखनाथ मंदिर जा रहीं सैकड़ों की संख्या में बीटीसी छात्र-छात्राओं पर  पुलिस ने लाठी चार्ज और पानी की बौछार मार कर धर्मशाला चौकी के पास रोका।

बता दें कि इन छात्र-छात्राओं को पता था कि तकरीबन 3:30 बजे के आस पास प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखनाथ मंदिर पहुंचेंगे। ये सभी निराश छात्र-छात्राएं मुख्यमंत्री से मिलकर अपनी शिकायत दर्ज कराने की उम्मीद में थीं। लेकिन धर्मशाला चौकी के पास ही पुलिस की भारी-भरकम टीम ने इन्हे रोक लिया। पुलिस के रोकने के बड़ा भी इन छात्र-छात्राओं ने आगे चलना जारी रखा।

उसके बाद पुलिस ने छात्राओं पर लाठी चार्ज किया और उन्हें वाटर प्रेशर से भगाने की कोशिश की। लड़कियों पर पानी की बौछार डालकर पुलिस ने इन्हे रोकने का प्रयास किया। उधर शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन कर रही छात्राओं को यह बात नागवार लगी। उन्होंने कहा कि यह कौन सा न्याय है। उनकी मांगे थी कि जो परीक्षा रद्द की गई है उसे जल्द से जल्द 15, 16 व 17 अक्टूबर को करा दिया जाए और एक महीने बाद टेड की परीक्षा को संपन्न करा दिया जाए।

उनका कहना था कि अगर देरी हुई तो वो सेमेस्टर में नहीं बैठ पाएंगे। इसी बात को सीएम के सामने रखने सभी महिला प्रशिक्षु बुधवार को मंदिर जा रही थीं। आपको बतादें कि 2015 बैच के चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा पुनः कराने को लेकर आज ये सीएम से मिलने जा रही थी । फिलहाल पुलिस ने 5 लड़कियों को मिलने की इजाजत दी बाकी को पुलिस वैन में बैठा कर पुलिस लाइन ले जाया गया।

बीटीसी प्रशिक्षुओं के मंसूबे के आगे विफल रही पुलिस

नार्मल स्थित डायट से निकलकर शास्त्री चौक पहुंचने तक बीटीसी प्रशिक्षुओं का पुलिस से सामना नहीं हुआ। शास्त्री चौक पर उनकी संख्या देखकर पुलिस के होश उड़ गए। उन्हें धर्मशाला पर रोकने की योजना बनी। एडीएम सिटी और एसपी सिटी के नेतृत्व में पुलिस फोर्स वहां पहुंच गई। फायर बिग्रेड की गाड़ियां मंगा ली गईं। बीटीसी प्रशिक्षुओं की तैयारी देखकर स्पष्ट था कि पुलिस बात करने के मूड में नहीं है। पुलिस को देखकर सामने देख नक्को बाबा मजार से ही प्रशिक्षु सुमेर सागर की ओर मुड़ गए। इस बीच पुलिस ने उन्हें दौड़ाया। पुरुष प्रशिक्षु भाग गए लेकिन महिलाएं डंटी रहीं। एसपी सिटी के आदेश पर फायर ब्रिगेड की गाड़ियों से पानी की बौछार कराई गई लेकिन महिलाएं भागने के बजाए वहीं बैठ गयीं और मैदान पर डटी रहीं। जब बात नहीं बनी तो अधिकारियों ने प्रशिक्षुओं से वार्ता शुरू की।

काफी देर बातचीत के बाद बनी सहमति

पानी की बौछार के बाद भी जब महिला प्रशिक्षु नहीं डिगीं तो पुलिस ने बातचीत का सहारा लिया। बातचीत के दौरान मुकदमा दर्ज करने, गिरफ्तार करने का भय भी दिखाया गया लेकिन कोई असर नहीं हुआ। काफी देर मान मनौव्वल के बाद प्रतिनिधि मंडल को मिलने की इजाजत दी गयी।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *