टॉप न्यूज़

इलाहाबाद में छात्र की हत्या के विरोध में दिशा छात्र संगठन ने निकाला जुलूस

इलाहाबाद में छात्र की हत्या के विरोध में दिशा छात्र संगठन ने निकाला जुलूस

गोरखपुर: इलाहाबाद में एलएलबी के छात्र दिलीप की हत्या के विरोध में आज दिशा छात्र संगठन के कार्यकर्ताओं ने गोरखपुर विश्वविद्यालय से जुलूस निकालकर विरोध प्रदर्शन किया।

जुलूस का नेतृत्व करते हुए दिशा के ऋषिकेश ने कहा कि दिलीप की हत्या किसी भी संवेदनशील इंसान को दहला देगी। हर कोई ये सोचने पर मजबूर है कि पूरे देश मे ये क्या हो रहा है। हर किसी न्यायप्रिय इंसान को अब कुछ कर गुजरने की बात दिमाग मे गूंज रही होगी।

इसी क्रम में राजू कुमार, दीपक, विकास ने कहा कि एक रेस्टोरेंट में थोड़ा सा पैर लग जाने पर दिलीप की बर्बरतापूर्ण हत्या कर दी गयी। यह हत्या पैसा, पद में पगलाए मानसिकता की प्रतिनिधिक घटना है। मुख्य आरोपी विजय शंकर सिंह कोई आम युवक नही, बल्कि सुल्तानपुर के एक दबंग पूर्व विधायक का दूर का रिश्तेदार भी था। वह खुद भी टीटीई के पद पर कार्यरत था। केंद्र व राज्य सरकार में फासीवादी सत्ता की मौजूदगी सवर्णवादी गुंडों को हर तरह के अपराध के लिए आश्वस्त करती है।

उनका कहना था कि गुंडाराज खत्म करने के नाम पर फर्जी एनकाउंटर किए जा रहे हैं। सरकार ही संगठित गुंडा तंत्र में तब्दील हो गई है। इलाहाबाद सरकार के मुखिया से लेकर उप मुखिया तक तमाम आपराधिक मुकदमों में फंसे हैं ।ऐसे माहौल में सवर्णवादी दबंगों को लगता है कि कानून व्यवस्था उनका क्या कर लेगी और वास्तव में कानून व्यवस्था कुछ भी नहीं कर पाती ,क्योंकि बड़े बड़े अपराधी नेता खुद ही अपने ऊपर से मुकदमे हटाने का फैसला ले रहे हैं। उनकी शह पर पलने वाले तमाम अपराधियों पर चलने वाले मुकदमें हटवा दिए जाते हैं ,गवाहों को डरा-धमका कर चुप करा दिया जाता है तो तमाम रसूखदार दबंगों को लगता है कि उनका कोई क्या बिगाड़ लेगा।

उन्होंने कहा कि मौजूदा पुलिस व्यवस्था से किसी तरह की उम्मीद पालना व्यर्थ है ,क्योंकि यह बेरहम हत्या SP ऑफिस से मात्र 200 मीटर की दूरी पर अंजाम दी गई। मृतक के दोस्तों ने बताया कि 100 नंबर डायल करने पर फोन भी नहीं उठा, इतना ही नहीं 24 घंटे तक आनाकानी करने के बाद रिपोर्ट दर्ज हुई और 36 घंटे बाद इसकी जानकारी उच्चाधिकारियों तक पहुंची। जब दिलीप की मौत हो चुकी थी, अपराधियों का एनकाउंटर करवाने वाली सरकार की जुबान इस मामले पर सिली हुई है।

उन्होंने कहा छात्रों युवाओं संगठनों के व्यापक प्रतिरोध के चलते कुछ कानूनी प्रक्रिया होगी और मामला चलता रहेगा। मौजूदा पूंजीवादी व्यवस्था अगर बनी रही तो पता नहीं कितने दिलीप समाजवादी अंधकार के शिकार होते रहेंगे । देश के संवेदनशील युवाओं को अपनी ताकत एकजुट करनी होगी और एक हाथ से पूंजीवादी व्यवस्था का गला दबोचना होगा तथा दूसरे हाथ से हिंदुत्ववादी ,सवर्णवादी ,फासीवादी तत्वों का और अब 1 सेकंड भी रुकना मनुष्यता के प्रति अपराध होगा।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *