टॉप न्यूज़

रात भर में साढे 3 मिमी हुई वर्षा, रवि की फसलों को मिला नया जीवन

अरविन्द श्रीवास्तव
गोरखपुर: किसानों के लिए खुशियों की बरसात लेकर आए उत्तर पश्चिम के डब्लू डी के बादल बीते मंगलवार की शाम से ही वर्षा कर रहे हैं। जो रवि की फसलों के लिए अमृतदायी साबित होंगे। मंगलवार की रात से बुधवार की सुबह तक लगभग साढे 3 मिमी वर्षा हुई। फसलों को नवजीवन मिला।

उत्तर पश्चिम से आए डब्लू डी के बादलों ने गोरखपुर, आजमगढ़ मंडल में मंगलवार की शाम से ही बूंदाबांदी के साथ शुरू हुई बरसात देर रात से हल्की बरसात में तब्दील हो गयी। कई स्थानों पर पत्थर के पड़ने की भी सूचना प्राप्त हुई। रात भर रिमझिम बरसात से रवि की फसलों के लिए नवजीवन बन गया। सीजन में अब तक वर्षा नहीं होने से रवि की फसलों की सिंचाई को लेकर किसान काफी परेशान रहे। खेतों में फसलों की सिंचाई के लिए पंप सेटों से सिंचाई कर काफी आर्थिक बोझ के तले दबे जा रहे थे। ऐसे में माघ माह के प्रारंभ होते ही उसके पहले दिन से किसानों के लिए खुशियों की बरसात डब्लू डी के बादलों ने लेकर दस्तक दी है।

केंद्रीय मौसम वैज्ञानिक सफीक अहमद ने फ़ोन पर बात करते हुए बताया कि डब्लू डी के बादल पूर्वी उत्तर प्रदेश में आगामी 24 तारीख तक हल्की व बूंदाबांदी के साथ वर्षा करते रहेंगे। इसके अलावा 25 जनवरी से लेकर 28 जनवरी तक तेज वर्षा होने की पूर्वानुमान उपग्रह से प्राप्त चित्रों के आधार पर किया जा रहा है। इस वर्षा से रवि की फसलों को विशेष लाभ मिलेगा। किसानों को सिंचाई की समस्या का समाधान होगा। वर्षा के बाद किसान अपनी फसलों में उर्वरक का प्रयोग 28 जनवरी के बाद कर सकते हैं। यह बरसात किसानों के लिए सोना साबित होगी।

मौसम विभाग ने बताया कि गोरखपुर में बीती रात मंगलवार को कुल 3.6 मिमी वर्षा बुधवार की सुबह 8:00 बजे तक हुई। वर्षा व तेज हवा से जनपद का तापमान बीते 24 घंटे में लगभग ढेड़ डिग्री लुढ़का हुआ पाया गया। बुधवार को सुबह में न्यूनतम तापमान लगभग 10.3 डिग्री रहा जबकि बीते मंगलवार का सूर्योदय के समय न्यूनतम तापमान 11.6 डिग्री रहा।

आपदा विभाग ने जारी की चेतावनी
जिलाधिकारी के विजयेंद्र पांडियन के निर्देश पर जिला आपदा नियंत्रण प्राधिकरण ने चेतावनी जारी किया है कि रिमझिम बरसात से सड़कों पर कीचड़ के होने के पूरी संभावना है। ऐसे में सभी मोटरसाइकिल सवार बगैर हेलमेट पहने कदापि न निकले। हेलमेट से पूरी सुरक्षा बनी रहेगी। इसके अलावा वाहन को चलाते समय यह ध्यान रखें कि धीमी गति में चले व मोड तथा क्षतिग्रस्त मार्गों पर काफी संभलकर धीमी गति में ही गाड़ी को चलाएं। ताकि पूरी सुरक्षा बनी रहे और जीवन सुरक्षित रहे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *