टॉप न्यूज़

जेएनयू विवाद: भाजयुमो के हस्ताक्षर अभियान में शामिल हुए गोरखपुर विश्वविद्यालय कुलपति प्रो अशोक कुमार

DDU-university-gorakhpur-VCगोरखपुर: जेएनयू विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। एक तरफ जहां सुप्रीम कोर्ट ने छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया की जमानत पर सुनवाई से इंकार कर दिया, तो वहीं छात्र आंदोलन भी तेज होता हुआ दिख रहा है। दिल्ली सहित देश के कई शहरों में कन्हैया के पक्ष और विपक्ष में छात्र आंदोलन चल रहे हैं।
वहीं गोरखपुर विश्वविद्यालय में जेएनयू की घटना के विरोध में भारतीय जनता युवा मोर्चा के हस्ताक्षर अभियान में कुलपति प्रो अशोक कुमार ने शामिल होकर यह संदेश दे दिया है, कि विश्वविद्यालय में किसी भी प्रकार की राष्टविरोधी गतिविधियों के लिए जगह नहीं है।
जेएनयू विवाद की आग से दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय भी अछूता नहीं है। विवाद के दो दिन बाद ही यहां के दो छात्र गुटों के बीच भी हल्की झड़प हुई थी। गुरुवार को भी एबीवीपी और अंबेडकरवादी छात्र सभा के बीच झड़प हुई थी। इसका वीडियो भी सोशल मीडिया और चैनलों पर वायरल हुआ था।
Signature-campaign-against-इस घटना को अभी 24 घंटे भी नहीं बीते थे, कि शुक्रवार को सुबह विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार पर भारतीय जनता युवा मोर्चा ने जेएनयू विवाद के विरोध में हस्ताक्षर अभियान शुरू कर दिया। अभी हस्ताक्षर अभियान शुरू हुआ था, कि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अशोक कुमार भी वहां पहुंच गए और उन्होंने हस्ताक्षर कर भाजयुमो के विरोध का पुरजोर समर्थन भी कर दिया।
इस दौरान उन्होंने जेएनयू विवाद पर छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि हमारे देश मे निश्चित रूप से अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है, लेकिन छात्र लक्ष्मण रेखा को ध्यान में रखकर ही कोई बयान दें और कार्यक्रम करें। उनकी मंशा भी पूरी तरह साफ दिख रही है। वह नहीं चाहते कि गोरखपुर विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राएं इस तरह की किसी भी गतिविधि का हिस्सा न बनें, जो देश के खिलाफ हो।
Students-staging-protest-at
दो दिन बाद ही विश्वविद्यालय का 34वां दीक्षांत समारोह प्रस्तावित है और उसमें मुख्य अतिथि के रूप में गृहमंत्री राजनाथ सिंह भी सम्मिलित हो रहे हैं। वहीं कार्यक्रम की अध्यक्षता कुलाधिपति रामनाईक करेंगे। गृहमंत्री राजनाथ सिंह गोरखपुर विश्वविद्यालय के पुरातन छात्र रहे हैं, ऐसे में जेएनयू विवाद को लेकर गोरखपुर विश्वविद्यालय में होने वाले दीक्षांत समारोह को लेकर शासन और प्रशासन भी पूरी तरह से सतर्क है।
विश्वविद्यालय में आने-जाने वाले लोगों और सुरक्षा की भी पूरी पड़ताल की जा रही है। समारोह को लेकर शासन-प्रशासन किसी भी प्रकार की कमी नहीं छोड़ना चाहता है
कन्हैया कुमार इस समय देश द्रोह के आरोप में दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद है।
कन्हैया कुमार मामले पर सर्वोच्च न्यायालय ने शुक्रवार को उनकी जमानत याचिका सुनवाई के लिए दिल्ली उच्च न्यायालय के पास भेज दी। याचिका में कन्हैया ने जमानत के साथ-साथ सुरक्षा की भी गुहार लगाई है।
SC-to-hear-Kanhaiya-Kumar'sन्यायमूर्ति जे.चेलामेश्वर और न्यायमूर्ति अभय मनोहर सप्रे की पीठ ने कन्हैया की याचिका दिल्ली उच्च न्यायालय को स्थानांतरित करते हुए इस पर जल्द सुनवाई करने को कहा।
सर्वोच्च न्यायालय ने सॉलिसिटर जनरल रंजीत कुमार का बयान भी दर्ज किया, जिसमें उन्होंने कहा कि उच्च न्यायालय में कन्हैया की ओर से पेश होने वाले वकीलों को पत्रकारों को पूरी सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी।
Supreme-Courtन्यायालय ने इसके बाद अपने महासचिव को कन्हैया की रिट याचिका और इससे संबंधित अन्य कागजात उच्च न्यायालय को हस्तांतरित करने के निर्देश दिए।
कन्हैया के वकील मामले की तुरंत सुनवाई करने के लिए शुक्रवार दोपहर को उच्च न्यायालय से अपील कर सकते हैं।

जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को लेकर गोरखपुर विश्वविद्यालय के दो छात्र गुटों में हुई झड़प

जरुर पढ़े: गोरखपुर विश्वविद्यालय: अनगिनत IAS, IPS देने वाले इस संस्थान ने प्रदेश को दिए हैं तीन मुख्यमंत्री! 

जेएनयू प्रकरण में ABVP ने राहुल गाँधी के खिलाफ दी कैंट थाने में तहरीर

भाजपा युवा मोर्चा के नेता ने राहुल गाँधी के लिए ‘पागलखाने’ में बुक कराया बेड!

Like Us:
fb
AD4-728X90.jpg-LAST

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *