टॉप न्यूज़

कुशीनगर लोकसभा सीट: आधी आबादी को अभी तक नहीं मिला है प्रतिनिधित्व करने का अवसर

मोहन राव
कुशीनगर: पूर्वांचल के तराई इलाके के कुशीनगर लोक सभा क्षेत्र से आज तक किसी भी महिला को प्रतिनिधित्व करने का मौका नहीं मिला है। इस सीट पर हमेशा पुरुषों का वर्चस्व रहा है। आजादी के बाद पडरौना नाम से यह लोकसभा सीट अस्तित्व में आया। पडरौना का नाम आते ही लोगों की जेहन में पिछड़ा क्षेत्र होने की परिकल्पना आने लगती थी। यह क्षेत्र सामाजिक आर्थिक दृष्टि से पिछड़ा था भी। इसी संसदीय क्षेत्र के पूर्वी छोर पर दुदही और उत्तरी में बलकुड़िया क्षेत्र बहुत ही पिछड़ा हुआ माना जाता था। जहां पीने का पानी खराब होने से लोग कुपोषित होते थे और उनकी बोलचाल की वाणी भी स्पष्ट नहीं हो पाती थी।

जिला बनने के बाद जनपद में परिवर्तन हुआ लेकिन आधी आबादी में खास परिवर्तन नहीं देखने को मिला। इस लोकसभा का अधिकतर क्षेत्र ग्रामीणी है। जिससे राजनीतिक तौर पर महिलाओं में जागरूकता की कमी है। 2011 की जनगणना देखें तो जनपद में लगभग 49% महिलाएं हैं। कुशीनगर लोकसभा क्षेत्र मे पांच विधानसभा रामकोला सुरक्षित, हाटा, कुशीनगर, खड्डा और पडरौना आता हैं । इस लोकसभा क्षेत्र के चुनाव मे मुख्य दल भी कभी भी महिलाओं को टिकट नहीं दिए।

महिला प्रत्याशियों की कभी होड़ भी नहीं रही। राज परिवार से कुंअरानी मोहिनी देवी, शशि शर्मा, डॉक्टर नम्रता पांडे आदि जैसे महिलाओं का नाम जनपद के महिला नेत्री के रूप में आया। लेकिन इन्हें भी मौका नहीं मिला। 2009 में पडरौना का नाम बदलकर कुशीनगर लोकसभा रखा गया। 2014 लोक सभा का चुनाव नये परिसीमन के आधार पर हुआ जिसमें मुख्य दलों ने पुरुष प्रत्याशियों पर ही दांव आजमाएं। भाजपा ने राजेश पांडेय, कांग्रेस आरपीएन सिंह, बसपा ने डॉक्टर संगम मिश्रा और सपा ने राधेश्याम सिंह पर दांव लगाया था। जिसमें भाजपा के राजेश पांडेय को सफलता मिली।

2019 के भी चुनाव में मुख्य दलों ने पुरुषों को ही टिकट दिया है। कुछ छोटे दलों से महिला प्रत्याशी आने की उम्मीद है। साथ ही एक तीसरे जेंडर समुदाय के प्रत्याशी की चुनाव मैदान में आने की चर्चा चल रही है। लेकिन बड़े दलों के पुरुष प्रत्याशियों को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि 2019 के चुनाव में भी यहां से आधी आबादी वाले वर्ग को प्रतिनिधित्व करने का अवसर नहीं मिलेगा।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *