टॉप न्यूज़

EXCLUSIVE गोरखपुर उपचुनाव: भाजपा ने तय किया इस नेता का नाम, कल हो सकती है घोषणा

EXCLUSIVE गोरखपुर उपचुनाव

राकेश मिश्रा
गोरखपुर: अगले महीने की 11 तारीख को होने वाले सदर लोक सभा गोरखपुर उपचुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने अपने उम्मीदवार का नाम लगभग तय हो कर लिया है। पार्टी के उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार क्षेत्रीय अध्यक्षउपेंद्र दत्त शुक्ला का नाम पार्टी ने प्रत्याशी के तौर पर लगभग तय कर लिया है।

सूत्रों के अनुसार पार्टी शुक्रवार को उम्मीदवार के नाम की घोषणा भी कर देगी। यूँ तो जब से भाजपा सत्ता में आयी है तब से पार्टी को लेकर सूत्रों के आधार पर कोई भविष्यवाणी करना खतरे से खाली नहीं है। लेकिन पार्टी मुख्यालय स्तिथ सूत्रों के अनुसार उपेंद्र शुक्ला के नाम पर फैसला हो गया है बस अंतिम मुहर लगना बाकी है।

सूत्र के अनुसार उपेंद्र शुक्ला के नाम पर बस एक ही पेंच फंस सकता है और वो होगा समाजवादी पार्टी (सपा) का उम्मीदवार। यदि सपा कोई सवर्ण या ब्राह्मण उम्मीदवार उतारता है तो उपेंद्र शुक्ला का नाम तय है। वहीँ अगर सपा के रामभुआल निषाद उम्मीदवार होते हैं और निषाद पार्टी के संजय निषाद मैदान में नहीं उतरते हैं तो भाजपा भी किसी निषाद को मैदान में उतार देगी। वहीँ अगर डॉ संजय निषाद सपा की शर्त मान यदि अपनी पार्टी का विलय पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की दल में विलय कर देते हैं तो वो उम्मीदवार हो सकते हैं।  हालांकि डॉ संजय निषाद पर भाजपा द्वारा तन, मन, धन से लगाए गए दबाव को देख कर ऐसा होना मुश्किल ही लगता है।

ऐसी स्थिति में भाजपा उनवल नगर पंचायत के नवनियुक्त चेयरमैन उमाशंकर निषाद को मैदान में उतार सकती है। भाजपा निषाद उम्मीदवार को मैदान में उतार कर निर्णायक निषाद वोटों में सेंध लगा सकती है। साथ ही साथ अपने परंपरागत वोटरों के बल पर चुनावी मैदान में बाजी आसानी से मार लेगी।

सूत्रों के अनुसार यदि सब कुछ सही रहा तो उपेंद्र शुक्ला को पार्टी उनके लगातार समर्पण का इनाम देने का मन बना चुकी है। जानकारी के अनुसार पार्टी की विधानसभा वार बैठकों में उपेंद्र शुक्ला ने कार्यकर्ताओं को एक उम्मीदवार के तौर पर ही सम्बोधित किया है। श्री शुक्ला का नाम सदर लोक सभा गोरखपुर उपचुनाव की प्रत्याशिता की दौड़ में पहले से आगे चल रहा था।

सदर संसदीय सीट से सांसद रहे गोरक्षपीठाधीश योगी आदित्यनाथ के सूबे के सीएम बनने के बाद इस सीट पर कौन होगा सांसद पद का प्रत्याशी इस बात की अटकलें बराबर लगाई जा रही हैं। पूर्व में भी कई नाम सोशल मीडिया के माध्यम से हवा में तैर रहे हैं।

किंतु भाजपा की चयन शैली को देखते हुए लग रहा है कि इस पद पर भी शिव प्रताप शुक्ला की तरह काफी दिनों से पार्टी की सेवा कर रहे पुराने कार्यकर्ता और क्षेत्रीय अध्यक्ष उपेंद्र दत्त शुक्ला को उतारा जा सकता है।

बता दें कि भाजपा के क्षेत्रीय अध्यक्ष उपेंद्र दत्त शुक्ला काफी लंबे समय से पार्टी और जनता के बीच सक्रिय हैं। लेकिन अब तक उन्हे एक जनप्रतिनिधि के तौर पर जीवन व्यतीत करने का मौका नही मिल पाया है। हालांकि एक दो बार वह कौड़ीराम विधानसभा क्षेत्र से अपना भाग्य भी आजमाए किन्तु पार्टी का सहयोग उनको नही मिल पाया। उनकी जगह किसी और को पार्टी का सिम्बल मिल गया था।

लेकिन ये भी सही है जब जब उन्होंने सम्बन्धित विधानसभा क्षेत्रों में अपना भाग्य आजमाया तब तब वह अपने विरोधियों पर काफी भारी पड़े थे। हालांकि अबकी बीते विधानसभा चुनावों में सहजनवां से उनके नाम की चर्चा चल रही थी, कि वर्तमान विधायक शीतल पांडेय के नाम पर आम सहमति बनते ही कहानी खत्म हो गयी। इसके बावजूद वह बीजेपी के साथ हमेशा लगे रहे और पार्टी में क्षेत्रीय अध्यक्ष जैसे महत्वपूर्ण ओहदे को सम्हालते रहे।

सबसे बड़ी बात कि अब तक बीजेपी के सभी क्षेत्रीय अध्यक्ष कहीं न कहीं सेट हो चुके हैं। ऐसे में वर्षो से सतत प्रयत्नशील रहे उपेंद्र दत्त शुक्ला को पार्टी हाईकमान व स्थानीय पदाधिकारियों की सहमति से आगामी सदर सांसद प्रत्याशिता के लिए चयन किया जा सकता है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *