टॉप न्यूज़

क्या सचमुच कलराज ने शलभ को देवरिया के लिए दे दिया है आशीर्वाद, क्या है वायरल पोस्ट का सच!

 कलराज ने शलभ को देवरिया के लिए दे दिया है आशीर्वाद

गोरखपुर: 2019 में लोक सभा चुनाव होने हैं और इसके लिए पार्टी के साथ-साथ अपने स्तर पर प्रत्याशियों ने भी तैयारी शुरू कर दी है। वैसे तो अभी योगी आदित्यनाथ द्वारा खाली की गयी गोरखपुर लोक सभा सीट पर उपचुनाव को लेकर गहमा गहमी चालू है। लेकिन अगर हम बात करें जनपद की पडोसी सीट देवरिया की, जहाँ से पूर्व केंद्रीय मंत्री कलराज मिश्रा वर्तमान में सांसद हैं, तो वहां भी भावी प्रत्याशियों ने अपना दमखम दिखाना शुरू कर दिया है।

जानकारी के अनुसार यहाँ से पत्रकार से नेता बने और वर्तमान में भाजपा प्रदेश प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी भी टिकट की कोशिश में लगे हैं। बीते विधान सभा चुनाव के पहले पत्रकारिता छोड़ राजनीति में आये शलभ विधान सभा चुनाव में भी टिकट की उम्मीद लगाये थे लेकिन उन्हें पार्टी ने उस समय प्रदेश प्रवक्ता बना कर युवाओं में उनकी लोकप्रियता को भुनाना उचित समझा। शलभ एक बार फिर देवरिया में बहुत सक्रिय है। देवरिया लोक सभा की लगभग सभी विधान सभाओं में शलभ को किसी ना किसी सार्वजनिक कार्यक्रम में रोज देखा जा रहा है। शलभ सोशल मीडिया पर जोरदार कैंपेन चलाये हुए हैं। युवा भी उनके साथ कम से कम सोशल मीडिया पर तो खड़े दिख ही रहे हैं।

इसी क्रम में आज फेसबुक पर एक पोस्ट वायरल हो रहा है जिसमे यह दिखाया गया है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री कलराज मिश्रा ने अपने आप को लगभग देवरिया के सांसद के दौड़ से अलग करते हुए अपना आशीर्वाद शलभ मणि को दे दिया है। पोस्ट में लिखा गया है कि ”हमारे अभिवावक कलराज मिश्रा जी ने ठाना है, शलभ मणि त्रिपाठी को सांसद बनाना है। पोस्ट में यह भी लिखा है कि,”आदरणीय कलराज जी का मानना है कि देवरिया का विकास एक युवा के हाथ” यही नहीं इस पोस्ट में सम्बंधित व्यक्ति ने शलभ मणि त्रिपाठी को भी टैग किया है।

Viral Post Related to Kalraj mishra deoria

Viral Post Related to Kalraj mishra deoria

जब इस सम्बन्ध में देवरिया सांसद कलराज मिश्रा से इस संवाददाता ने फ़ोन पर बात की तो उनका कहना था कि,”मैं कौन होता हूँ किसी को आशीर्वाद देने या नहीं देने वाला।” उन्होंने कहा कि किस लोक सभा सीट से कौन लड़ेगा यह निर्णय लेना पार्टी का अधिकार है और हम सब पार्टी के निर्णयों से पूरी तरह बंधे हुए है।

उन्होंने इस पोस्ट में लिखी हुई बातों को एक सिरे से नकारते हुए कहा कि वो यह मान कर चल रहे हैं कि देवरिया से 2019 में वो खुद चुनाव लड़ेंगे इसलिए किसी को इस संबंध में कुछ कहने सुनने का कोई प्रश्न ही नहीं उठता।

क्या उनके पुत्र अमित मिश्रा भी पार्टी के संभावित उम्मीदवारों की दौड़ में शामिल हैं के प्रश्न के जबाव में श्री मिश्रा ने कहा कि यह निर्णय करना पार्टी का अधिकार है कि कौन चुनाव लड़ेगा और कौन नहीं।

आपको बता दें कि वरिष्ठ नेता कलराज मिश्रा भी इन दिनों क्षेत्र सहित पूर्वांचल में काफी सक्रिय हैं। बीते दिनों कलराज की पहल पर ही केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी देवरिया आये थे और इस क्षेत्र के लिए विकास के कई नए सौगात, जिसमे वर्षों से लंबित पड़े देवरिया बाई पास, देकर गए।

वही पिछले हफ्ते श्री मिश्रा ने देवरिया में प्रथम उत्तर प्रदेश दिवस समारोह के दौरान जिले में आधुनिक सीटी स्कैन मशीन का शुभारम्भ भी किया। श्री मिश्र ने देवरिया जिला पंचायत परिसर में उत्तर प्रदेश दिवस का फीता काटकर उद्दघाटन करने के बाद विभिन्न विभागों द्वारा लगाये गये स्टालों का निरीक्षण करने के बाद जिला अस्पताल में आधुनिक सीटी स्कैन मशीन का शुभारम्भ किया था।

बीते वर्ष सितम्बर में कलराज मिश्रा ने केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया था। कलराम मिश्र मोदी सरकार में लघु एवं सूक्ष्म मंत्रालय संभाल रहे थे। कलराज मिश्र उम्र के हिसाब से मोदी कैबिनेट के वरिष्ठतम मंत्रियों में से थे। 76 साल के कलराज मिश्र राज्य के बड़े ब्राह्मण नेता माने जाते हैं।

कलराज के केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफे के बाद ऐसी अटकलें लगायी जा रही थी उन्हें पार्टी किसी प्रदेश का राज्यपाल बनाएगी। लेकिन वो भी नहीं हुआ। हालांकि उसके बाद श्री मिश्रा की देवरिया में सक्रियता और बढ़ गयी। मंत्री पद से मुक्त होने के बाद श्री मिश्रा देवरिया में ज्यादा सक्रिय हो गए और तबसे उन्होंने कई योजनाओं जिसमे देवरिया में पासपोर्ट सेवा केंद्र का खोलवाना भी था, को अमली जमा पहनाया।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *