टॉप न्यूज़

शिक्षा की तकनीकियों का जरायम में प्रयोग, आईटीआई पास बने हाईवे के लुटेरे

arrested-duoहरिकेश सिंह (वरिष्ठ संवाददाता)
गोरखपुर: 1980 के दशक में मिनी शिकागो की उपमा धारण कर चुका गोरखपुर फिर उसी राह चल पड़ा है। फर्क सिर्फ इतना है कि वहां गैंगवार होता है और यहाँ युवा वर्ग अपनी शैक्षिक योग्यता का प्रयोग जरायमपेशा होने के लिए कर रहा है। पुलिस की गिरफ्त में खड़े इन सीधे-साधे से दिखने वाले युवको के चेहरे की मासूमियत पर मत जाइएगा।
ये हैं हाईवे के लुटेरे…जो रात में ट्रक चालकों और दिन में माइक्रोफाइनेंस कंपनी के कर्मचारियों को बनाते थे लूट का शिकार। खास बात यह है कि लुटेरों के गैंग का सरगना आईटीआई पास है। पुलिस ने इस गैंग के सरगना सहित दो लुटेरों को गिरफ्तार कर लूट की 13 घटनाओं का खुलासा किया है।
Captured-goodsमंगलवार को गोरखपुर के एसएसपी अनंत देव ने घटना के खुलासे के दौरान बताया कि गगहा थानाक्षेत्र के कराहकोल पुल से पुलिस ने कुशल मिश्रा और विवेकानंद को गिरफ्तार किया। दोनों के पास से पुलिस ने एक तमंचा, वोटर आईडी कार्ड, पल्सर मोटरसाइकिल, लूट का 8 मोबाइल, माइक्रोफाइनेंस कंपनी का लूटा हुआ बैग और नकदी बरामद किया।
पुलिस ने जब दोनों से पूछताछ की तो उनके होश उड़ गए। एसएसपी अनंतदेव ने बताया कि इस गिरोह ने अभी तक लूट की 150 घटनाओं को अंजाम दिया है। उन्होंने बताया कि इस गैंग के दो लुटेरे फरार हैं और ये गोरखपुर से कानपुर तक हाइवे पैट लूट की वारदातों को अंजाम देते थे।
Arrested-duo-with-policeखास बात ये कि ये शिक्षित लुटेरे बाइक से ही कानपुर तक सफ़र कर लूट की घटनाओं को अंजाम देते थे। गैंग का सरगना मास्टरमाइंड कुशल मिश्रा गोरखपुर के गगहा के सोनइचा का रहने वाला है। वहीं उसका साथी विवेकानंद उर्फ़ गोलू जौनपुर का रहने वाला है।
कुशल ने मीडिया के सामने अपने गुनाह को कुबूल करते हुए बताया कि उसके गिरोह ने 50 से 60 लूट की घटनाओं को अंजाम दिया है। उसने बताया कि वह आईटीआई पास है। रात में उसका गिरोह ट्रक चालकों और दिन में फाइनेंस कंपनी के कर्मचारियों को लूट का शिकार बनाते था।
यह गिरोह लूट का रुपया मुर्गी फ़ार्म के धंधे में लगाता था। आज हुई इस गिरफ्तारी से हाइवे पर रात के अँधेरे में ट्रक चालकों के लिए खौफ बने इस लुटेरे गैंग का पर्दाफ़ाश हो चुका है।
इसके साथ ही ख़त्म हो गया है हाइवे का खौफ का खतरनाक खेल।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *